पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आकोला से खबर:ताणा में बनेगा पंचगव्य निर्मित छात्रावास, भूमि पूजन किया, 11वीं तक के विद्यार्थी रह सकेंगे

चित्तौड़गढ़8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ऋग्वेद में गाय माता को मां कहा गया है। गाेमाता की शक्ति से ही गोबर, गोमूत्र, दूध, दही आदि मेंऔषधी गुण हैं। गाेमाता से प्राप्त 5 तत्वों को पंचगव्य कहा जाता है। शास्त्रों में गाेमाता का महत्व तो है ही साथ ही पंचगव्य का भी विशेष महत्त्व है। यही भाव विद्यार्थियों को प्राप्त हो इसके लिए जय गाेमाता गुरुकुलम ताणा में प्रथम पंचगव्य निर्मित छात्रावास का निर्माण हाेगा। बुधवार काे इसका भूमि पूजन किया गया। 31 वर्षीय गाे पर्यावरण एवं अध्यात्म चेतना पदयात्रा के संचालक गोपालानंद सरस्वती महाराज की प्रेरणा से हुआ।

छात्रावास में कक्षा 3 से 11 वीं तक के विद्यार्थियों के रहने की व्यवस्था रहेगी। कार्यक्रम में साध्वी श्रद्धा गोपाल सरस्वती ने पंचगव्य आवास का महत्व बताया। भूमि पूजन गुरुदेव, साध्वी कपिला दीदी अध्यक्ष, साध्वी श्रद्धा दीदी निदेशक, साध्वी आराधना दीदी कोषाध्यक्ष, सरपंच तारा देवी मालीवाल, रामसिंह आक्या, भंवर खारोल राष्ट्रीय अध्यक्ष खारोल समाज, अजीत कुमार शर्मा विद्यालय व्यवस्थापक, विजय कुमार बैरवा प्रधानाचार्य जेजीएम गुरुकुलम, गोपाल तेली, विनोद मालीवाल की उपस्थिति में हुआ। ताणा-आकोला हाइवे पर वाटर कूलर की व्यवस्था गुरुकुलम द्वारा की गई। जिसका शुभारंभ हुआ। विद्यालय व्यवस्थापक अजीत शर्मा ने आभार जताया।

खबरें और भी हैं...