पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पर्यटन व कला संस्कृति:लोक आस्था और पर्यटन केंद्र बनेंगे पैनोरमा, सफेद हाथी नहीं बने, इसलिए शुल्क और संचालन का जिम्मा भी तय

चित्तौड़गढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • राज्य प्रोन्नति विकास प्राधिकरण द्वारा निर्मित सभी पैनोरमा का उपखंडस्तरीय पर्यटन विकास समितियां करेगी संचालन
  • प्रदेश में 5 पैनोरमा जिले में, 12 साल तक के बच्चे के लिए 5 और अधिक के लिए 10 रुपए टिकट

ऐतिहासिक और आध्यात्मिक महापुरुषों का जीवन चरित्र उभारने के लिए बने पेनोरमा का संचालन और अधिकतम शुल्क भी तय कर दिया गया। राज्य में बनाए गए लगभग 50 पेनोरमा का संचालन एसडीएम की अध्यक्षता वाली कमेटियां करेगी। इस संबंध में राज्य पर्यटन विभाग के आदेश जारी हो गए है। जिसमें पेनोरमा को देखने के लिए प्रति व्यक्ति सामान्य 10 रूपए व 12 वर्ष तक के बच्चों के लिए 5 रूपए का शुल्क भी निर्धारित किया गया। ताकि ये पेनोरमा सरकार के लिए सफेद हाथी न बना जाएं। साथ ही पर्यटन केंद्र के रूप में भी स्थापित हो सके।

उल्लेखनीय है कि सरकार ने राजस्थान राज्य प्रोन्नति विकास अधिकरण के माध्यम से गत 10 साल में राज्यभर में करीब 50 पेनोरमा बना लिए है। जिसमें से सबसे अधिक 5 चित्तौड़गढ़ जिले में ही है। प्रदेश के अन्य जिलों में बने 5 और पेनोरमा भी चित्तौड़गढ़ के ऐतिहासिक महापुरुषों के नाम से है। इसलिए इस प्रोजेक्ट का हमारे लिए और अधिक महत्व हो गया है। दो पेनोरमा संत रैदास और गोरा-बादल के चित्तौड़गढ़ शहर में ही क्रमश: गांधीनगर से आग मोहरमंगरी के पास और भोईखेड़ा में हैं।

राशमी के मातृकुंडिया में भगवान परशुराम , बडीसादडी में झाला मन्ना और बेगूं के गोविंदपुरा में शहीद रूपाजी करपाजी पेनोरमा भी बनकर तैयार हो गए है। निर्माण और स्क्रिप्ट का काम राजस्थान राज्य प्रोन्नति विकास प्राधिकरण द्वारा किया जा चुका है। इसलिए अब इनको पर्यटकों के के लिए भी खोला जा रहा है।

पर्यटन विभाग के संयुक्त शासन सचिव ने सीएम के प्रमुख सचिव, विशिष्ट सहायक पर्यटन कला व संस्कृति, प्राधिकरण अध्यक्ष, सभी संभागीय आयुक्त, कलेक्टर, पर्यटन व पुरातत्व विभाग निदेशक आदि के नाम संचालन संबंधी गाइडलाइन भी जारी कर दी। जिसके अनुसार प्रत्येक जिले में पर्यटन विकास के लिए पहले से कलेक्टर की अध्यक्षता वाली जिला पर्यटन विकास समिति और इसके अधीन उपखंड स्तरीय पर्यटन विकास समिति का गठन किया हुआ है।

उपखंड स्तरीय पर्यटन विकास समिति ही जिला समिति के नियंत्रण व राजस्थान धरोहर संरक्षण व प्रोन्नति प्राधिकरण के पर्यवेक्षण में अपने क्षेत्र में प्राधिकरण संबंधित कार्य, पेनोरमा, स्मारक, संग्रहालय के संचालन, प्रबंधन व अनुरक्षण का कार्य भी करेगी। उल्लेखनीय है कि राज्यभर में पूर्व वसुंधराराजे सरकार में इन पेनोरमा को बनाने का श्रेय प्राधिकरण अध्यक्ष रहे औंकारसिंह लखावत व सीईओ टीकमचंद बोहरा को जाता है। मौजूदा सीएम अशोक गहलोत ने गत दिनों चित्तौडगढ के गोरा बादल और परशुराम पेनोरमा सहित अन्य के वर्चुअल उदघाटन पर इसकी प्र्रशंसा भी की थी।

उपखंड स्तरीय समितियों में ये रहेंगे
आदेश के अनुसार कमेटी में उपखंड अधिकारी अध्यक्ष और तहसीलदार सचिव होंगे। उप कोषाधिकारी कोषाध्यक्ष तो संबंधित सहायक निदेशक पर्यटन विभाग, एईएन पीडब्लयूडी पीएचईडी, एवीवीएनएल, पंस बीडीओ, नगर निकाय के ईओ या फिर ग्राम पंचायत सचिव सदस्य होंगे।

यह काम करेगी उपखंडस्तरीय कमेटियां
राजस्थान की सांस्कृतिक धरोहर व विरासत के संरक्षण, संवर्धन व बिसरती निधि को पुर्नजीवित करने का प्रयास करना, जनजीवन को प्रेरणा देने वाले स्थलों, स्मारकों, प्राचीन वस्तुओं को संर्वद्वित, संरक्षित करने व प्रेरणादायी जीवन को परिदृश्य वाले इस पेनोरमा अथवा संग्रहालय, गैलरिज व अन्य दर्शनीय माध्यमों से स्थायी प्रकृति के काय्र करवाने व पर्यटन व तीर्थटन के लिए विकसित करना है।

वही प्रदेश में प्रचलित प्रदर्शनकारी कला, संगीत, भाषा व साहित्य के उत्थान की दिशा में कार्य करना, मूर्तिकला, शिल्पकला, मेला, सभ्यता, वस्तुशिल्प, स्थापत्य कला की जानकारी देना व इसके लिए जन व संस्थागत सहयोग करना है। जिला पर्यटन विकास समिति के निर्देशानुसार समिति के कार्य संबंधित उपखंड में उपखंड स्तरीय पर्यटन विकास समिति द्वारा किए जाएंगे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज भविष्य को लेकर कुछ योजनाएं क्रियान्वित होंगी। ईश्वर के आशीर्वाद से आप उपलब्धियां भी हासिल कर लेंगे। अभी का किया हुआ परिश्रम आगे चलकर लाभ देगा। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे लोगों के ल...

और पढ़ें