सड़क पर दौड़ रहा भालू वाहन के नीचे आया:खून से लथपथ ने मौके पर ही तोड़ा दम, खाने की तलाश में मां के साथ आबादी क्षेत्र में आया

चित्तौड़गढ़9 महीने पहले

सड़क पर दौड़ रहे भालू के बच्चे की मौत हो गई। वाहन की टक्कर के कारण खून से लथपथ हो गया और दम तोड़ दिया। वह 2 साल की बच्ची और मादा थी। खाने की तलाश में अपनी मां के साथ शहरी क्षेत्र में आइ थी। हालांकि उसकी मां का कुछ पता नहीं चला है। वन विभाग ने पोस्टमार्टम करवाकर दफनाया।

चोट लगने पर मौके पर तोड़ा दम
सहायक उपवन संरक्षक वन्यजीव, भैंसरोडगढ़ अनुराग भटनागर ने बताया कि रावतभाटा रामगंज मंडी मार्ग पर एक भालू की मौत हो गई। सड़क से गुजर रहे लोग भालू को खून से लथपथ देखकर डर गए। वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची। फुट मार्क से पता चला कि बच्चा अपनी मां के साथ था। किसी वाहन की टक्कर से चोट लगने पर उसकी मौत हो गई। यह 2 साल की बच्ची है और मादा है। सहायक वनपाल जय प्रकाश सिंह, चंद्रभान सिंह और प्रेम कंवर पहुंची। भालू को उठाकर सेडल डेम री लोकेशन सेंटर ले आए, जहां उसका पोस्टमार्टम कर डिस्पोजल दिया जाएगा। वन संरक्षक राजेंद्र गुप्ता ने बताया कि यह मुकुंदरा के जंगलों से या रावतभाटा के वन क्षेत्र से आया होगा।

खाने की तलाश में आबादी क्षेत्र आते वन जीव
सहायक उप वन संरक्षक वन्यजीव, भैंसरोडगढ़ अनुराग भटनागर ने बताया कि रावतभाटा वन खंड में नाई की तलाई और कान्या तालाब में भालू का वास होता है। अधिकतर वन्य जीव खाने की तलाश में आबादी क्षेत्र में आ जाते हैं। कई बार ऐसा हुआ कि रावतभाटा के कॉलोनी में वन्य जीव घुस गए हैं। अंदाजा लगाया जा रहा है कि यह बच्ची भी अपने मां के साथ ही खाने की तलाश में आई होगी और रोड क्रॉस कर रहे थे। इस दौरान तेज गति से जा रही किसी गाड़ी से टक्कर हो गई।

रोड पर ना स्पीड ब्रेकर ना साइन बोर्ड
सड़क पर ना स्पीड ब्रेकर लगा और ना ही साइन बोर्ड। इसके कारण आए दिन एक्सीडेंट होते रहते हैं। वाहन भी तेज गति से निकलते है जबकि आस-पास वनद क्षेत्र है।

फोटो और कंटेट- दिलीप वाधवा

खबरें और भी हैं...