एल्डर हेल्पलाइन बनी बुजुर्गों की दोस्त:पेंशन से जुड़ी समस्याओं को लेकर फोन कर रहे वरिष्ठ नागरिक, इमोशनल सपोर्ट भी ढूंढ रहे

चित्तौड़गढ़एक महीने पहले
डेमो पिक।

भारत सरकार के सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा वरिष्ठ नागरिकों के लिए एक हेल्पलाइन शुरू की गई थी। इसके बाद से हेल्पलाइन में कई बुजुर्गों ने मदद की गुहार लगाई। जिले के अधिकांश बुजुर्गों ने पेंशन से जुड़ी समस्याओं को सुलझाने में मदद मांगी है। इसके अलावा सबसे ज्यादा बुजुर्ग इमोशनल सपोर्ट के लिए भी कर रहे हैं।

राजस्थान में 18 मई से वरिष्ठ नागरिकों को उनके सामने आने वाली चुनौतियों और समस्याओं में हेल्प करने के लिए एल्डर लाइन 14567 शुरू की गई थी। इसके बाद अक्टूबर से केंद्र सरकार की ओर से भी इस हेल्पलाइन को पूरे देश में लागू किया गया। राजस्थान के अंदर इसकी कंट्रोलिंग बॉडी एवं कॉल सेंटर जेके लक्ष्मीपत यूनिवर्सिटी जयपुर में स्थापित किया गया है। इस हेल्पलाइन के तहत राजस्थान के प्रत्येक जिले में फील्ड रिस्पॉन्स ऑफिसर की नियुक्ति की गई है।

एल्डर हेल्पलाइन रिस्पॉन्स ऑफिसर अभिषेक सोनी ने बताया कि इस हेल्पलाइन में मई से दिसंबर तक 350 से भी ज्यादा कॉल आ चुके हैं। उन्होंने बताया कि इस दौरान बुजुर्गों ने अपनी पेंशन से होने वाली समस्याओं के लिए हेल्प मांगी है। उन्होंने पेंशन से जुड़े हुए जरूरी डॉक्यूमेंट या पेंशन मेले में होने वाली समस्याओं को हेल्पलाइन से शेयर किया है।

बुजुर्ग ढूंढ रहा है इमोशनल सपोर्ट
ऑफिसर अभिषेक सोनी का कहना है कि इसके अलावा भी बुजुर्ग हेल्पलाइन में इमोशनल सपोर्ट भी ढूंढ रहे हैं। हमसे जितना हो सकता है, हम उनकी मदद करते हैं। कई बार बुजुर्गों पर घर पर अत्याचार होता है, लेकिन वह यह बात किसी से नहीं कह पाते। आज की पीढ़ी तो अपने दोस्तों के साथ या सोशल मीडिया में शेयर करके दिल हल्का कर लेते हैं, लेकिन बुजुर्ग अचानक किसी से भी जुड़ नहीं पाते। ऐसे में अपने साथ हो रहे अत्याचारों का जिक्र भी नहीं कर पाते। ऐसे में कई बुजुर्ग हेल्पलाइन पर फोन कर मदद भी मांगते हैं और इमोशनल सपोर्ट भी।