पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

स्टील के डिब्बों में छिपाई 2.50 लाख रुपए की अफीम:रिश्तेदार के नाम था अफीम का पट्‌टा, तौल करने के लिए दी तो 2 किलो छिपा कर रख दी, पहली बार बेचने का सोचा था, इससे पहले ही पकड़ा गया

चित्तौड़गढ़एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राशमी थाना। - Dainik Bhaskar
राशमी थाना।

जिले के राशमी थाना क्षेत्र में एक रिहायशी मकान में पुलिस ने दबिश दी और वहां से लगभग 2 किलो से ज्यादा अफीम पकड़ी। इसकी अनुमानित कीमत 2.50 रुपए तक की बताई जा रही है। प्रारंभिक जांच में सामने आया कि मकान मालिक का गांव में अपने परिजन के नाम पर अफीम पट्टा है। अफीम तौल करने से पहले ही उसने अफीम अलग रख ली थी और आगे किसी को बेचना चाहता था। जांच थानाधिकारी कपासन हिमांशुसिंह राजावत को सौंपी गई। राशमी थाना क्षेत्र के पावली ग्राम में बने एक रिहायशी मकान में अफीम होने की सूचना पुलिस को मुखबिर से मिली। कार्यवाहक थानाधिकारी ओमप्रकाश ओला ने इसकी जानकारी उच्चाधिकारियों को दी। इसके बाद एसपी राजेंद्र गोयल के आदेश पर ओला के नेतृत्व में राशमी पुलिस ने मकान पर दबिश दी। इस दौरान मकान का मालिक रामेश्वर पुत्र जीतमल जाट मौके पर ही मौजूद था। पुलिस ने पूरे मकान की तलाशी ली। मकान की दूसरी मंजिल में बने एक कमरे में एक स्टील के बर्तन के अंदर एक प्लास्टिक में अफीम रखी हुई थी। तौल करने पर 2 किलो 200 ग्राम अफीम होना पाया गया। जिसे पुलिस ने जब्त कर रामेश्वर लाल जाट को गिरफ्तार कर लिया।

पहली बार बेचने का सोचा था, पकड़ा गया
प्रारंभिक जांच में पता चला है कि आरोपी के परिवार के किसी सदस्य के नाम अफीम के पट्टे थे। अफीम तौल में सब अफीम दे दी गई लेकिन कुछ अफीम इसने छिपा कर रख दी। अफीम को वो बेचने वाला था। आरोपी खुद भी नशा नहीं करता है और डेयरी व खेतीबाड़ी का काम है। पहली बार उसने अफीम बेचने की बात सोची और पकड़ा गया।

खबरें और भी हैं...