ऑक्सीजन प्लांट का उद्धघाटन:सांसद सीपी जोशी ने कहा-कोविड की दूसरी लहर खतरनाक थी,1000 एलपीएम क्षमता वाले ऑक्सीजन प्लांट से होगा फायदा

चित्तौड़गढ़20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वर्चुअल उद्घाटन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। - Dainik Bhaskar
वर्चुअल उद्घाटन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

चित्तौड़गढ़ और निंबाहेड़ा अस्पताल में नवनिर्मित ऑक्सीजन प्लांट का वर्चुअल उद्धघाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया। सांसद सीपी जोशी ने बटन दबाकर मशीन को चालू किया। सांसद जोशी ने बताया कि आज के दिन ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राजनीति सफर को 20 साल पूरे हुए। उन्होंने कहा कि कोविड की दूसरी लहर बहुत खतरनाक साबित हुई थी। उसी समय ऑक्सीजन की उपयोगिता देखी गई। इन दोनों प्लांट से लोगों को और ज्यादा फायदा मिलेगा,साथ ही चिकित्सा विभाग भी सुदृढ़ होगा। सांसद जोशी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने राजस्थान को 22 मेडिकल कॉलेज दिए है। चित्तौड़ को भी यह सौगात मिली है।

सांसद प्रवक्ता रघु शर्मा ने बताया कि इस आयोजन का हॉस्पिटल परिसर में ही इसके प्रसारण की व्यवस्था की गई। 1000 एलपीएम क्षमता के ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट की स्थापना के लिए सिविल एवं इलेक्ट्रीकल का कार्य भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ईकाई-चित्तौड़गढ़ की ओर से किया गया है। 1000 ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट में संयत्र डीआरडीओ ने स्थापित किया गया है और यह संचालित है।

बटन दबाकर ऑक्सीजन प्लांट की मशीन को चालू करते हुए सांसद सीपी जोशी।
बटन दबाकर ऑक्सीजन प्लांट की मशीन को चालू करते हुए सांसद सीपी जोशी।

अस्थाई कर्मचारियों ने सौंपा ज्ञापन

इस मौके पर कोविड काल में दी गई यूटीबी एएनएम, जीएनएम की अस्थाई भर्तियों को लेकर युवक और युवतियों ने कलेक्टर ताराचंद मीणा, सांसद सीपी जोशी को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन के दौरान रमेश मेनारिया ने बताया कि 11 महीने पहले भर्ती दी गई थी, उस दौरान हम सबने को भी कोविड केयर में और सांवलिया जी हॉस्पिटल में अपनी ड्यूटी दी थी। अब रिक्त स्थानों पर अस्थाई कर्मचारियों को रखने के लिए अस्थाई कर्मचारियों को निकाला जा रहा है। मेनारिया ने कहा कि इस तरह का बर्ताव उचित नहीं है। रिक्त पदों पर जिन्होंने 11 महीनों से ड्यूटी दे रहे है, उन्हें रखा जाए और हमारी सेवाएं ली जाए। उन्होंने ज्ञापन सौंपकर नहीं निकाल सेवाओं से नहीं निकालने यह मांग की है।

अस्थाई नर्सिंग कर्मचारियों ने जिला कलेक्टर ताराचंद मीणा को सौंपा ज्ञापन।
अस्थाई नर्सिंग कर्मचारियों ने जिला कलेक्टर ताराचंद मीणा को सौंपा ज्ञापन।
खबरें और भी हैं...