पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जमानत याचिका खारिज:कार चोरी मामले में ठक्कर को जेल

चित्तौड़गढ़18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शहर के प्रतापनगर निवासी एनआरआई की कार चोरी के मामले में सोमवार को आरोपी पत्रकार नरेश ठक्कर को न्यायालय आदेश पर जेल भेज दिया गया। आरोपी की ओर से लगाई जमानत याचिका कोर्ट ने खारिज कर दी। अब पुलिस ठक्कर को अन्य मामलों में प्रोडक्शन वारंट पर गिरफ्तार कर सकती है।

सदर थाने के एसआई भगवानसिंह झाला ने बताया कि 15 अगस्त को एनआरआई रमेश चंचलानी की कार चोरी हुई थी। आरोपी पत्रकार नरेश ठक्कर को पुलिस गुजरात के मेहसाणा से पकड़ कर लाई थी। आरोपी ने कार कुंभानगर क्षेत्र में छुपा दी थी। चार दिन बाद कार को उदयपुर के एक गैराज में कलर बदलने के लिए खड़ी कर दी। पुलिस ने उदयपुर से कार बरामद की थी। आठ दिन का रिमांड पूरा होने पर ठक्कर को न्यायालय में पेश करने पर जेल भेजने के आदेश हुए।

ठक्कर के विरुद्ध एनआरआई रमेश चंचलानी ने सदर थाने में चोरी की कार ढाई लाख रुपए में बेचकर धोखाधड़ी करने का भी मामला दर्ज कराया है। ठक्कर ने स्कार्पियों चोरी की थी। उसे दोस्त की बताकर चंचलानी को ढाई लाख रुपए में सौदा करवाया। उस समय चंचलानी दुबई था। वह कार निंबाहेड़ा कोतवाली पुलिस चंचलानी के घर के बाहर से इसलिए उठाकर ले गई कि वह निंबाहेड़ा से चोरी हुई थी। इस मामले में पुलिस ठक्कर को प्राडक्शन वारंट पर जेल से गिरफ्तार कर सकती है।

पीडब्ल्यूडी के मुख्य अभियंता के नाम फर्जी मेल किया था
कोतवाली थाने में 13 अगस्त को दर्ज हुए पीडब्ल्यूडी में उदयपुर रोड पर विजन कॉलेज से बोजुंदा तक 150 मीटर सड़क को यूआईटी में ट्रांसफर करने के मामले में मुख्य अभियंता जयपुर के नाम से जारी फर्जी मेल के दर्ज प्रकरण में भी नरेश ठक्कर द्वारा फर्जी मेल करने में की पुष्टि होने के बाद कोतवाली पुलिस आरोपी को जेल से प्राडक्शन वारंट पर गिरफ्तार कर सकती है।

खबरें और भी हैं...