मानवधिकार सुरक्षा फाउंडेशन का अजीब प्रदर्शन:सहायता कोष में जमा कराने कोयले लाए कलेक्टर बोले- अभी तो ज्ञापन ले लेता हूं

चित्तौड़गढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बिजली संकट पर अंतरराष्ट्रीय मानवधिकार सुरक्षा फाउंडेशन का अजीब प्रदर्शन

प्रदेश में कोयले की कमी से चल रहे बिजली संकट को लेकर इन दिनों रोचक तरह के प्रदर्शन भी हो रहे हैं। मंगलवार को भाजयुमो ने काले गुब्बारे हाथ में लेकर रैली निकाली थी तो बुधवार को एक संगठन के कार्यकर्ता कोयले के पैकेट मुख्यमंत्री सहायता कोष में जमा कराने के लिए कलेक्टर के पास पहुंच गए।

अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार सुरक्षा फाउंडेशन जिलाध्यक्ष राजू अग्रवाल शंभूपुरा ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा बार-बार यह कहा जा रहा है कि सरकारी पावर प्लांट में कोयले का स्टॉक लगभग खत्म हो चुका है। इसलिए कार्यकर्ता लगभग 80-90 किलो कोयला के 20 पैकेट बनाकर कलेक्टर ताराचंद मीणा के चैंबर में पहुंच गए।

उनको ज्ञापन के साथ ये पैकेट मुख्यमंत्री सहायता कोष में भेजने का निवेदन किया। एकबारगी कलेक्टर भी पशोपेश में पड़ गए कि इन कोयलों का क्या करें? उन्होंने यह कहते हुए समझाया कि चूंकि इस तरह की सामगी पहली बार आई है, इसलिए मैं आपका ज्ञापन आगे भेजकर पूछता हूं। अभी दो-तीन की छुट्टियां भी है। यहां कहां रखेंगे इसलिए अभी आप ले जाओ, फिर मंगा लेंगे।

इसके बाद कार्यकर्ता ज्ञापन देकर और पैकेट वापस लेकर चले गए। अग्रवाल ने कहा कि हाल में यह खुलासा हुआ कि राजस्थान द्वारा कोल कंपनियों को पहले का भुगतान नहीं करने और समय रहते डिमांड नहीं करने के कारण यह स्थिति उत्पन्न हुई जबकि राज्य सरकार कोयले की कमी का हवाला देते हुए जनता को संकट बता रही है और कटौती की जा रही है। जिससे आमजन परेशान है।

खबरें और भी हैं...