पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मोडिया महादेव बांध पर ढाई इंच चादर चली:जिले के 15 बांधों में आया पानी, ओराई बांध मात्र एक फीट खाली, 2 फीट भरते ही छलक जाएगा गंभीरी, मोरवन बांध 1 फीट खाली

चित्तौड़गढ़13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मोडिया बांध पर चल रही है ढाई इंच की चादर। - Dainik Bhaskar
मोडिया बांध पर चल रही है ढाई इंच की चादर।

जिले में बारिश का दौर जारी है। रविवार को शहर में तो बादल छाये रहे लेकिन बरसे नहीं। वही जिले के बडे बांधों खासकर गंभीरी और आेराई बांधों में लगाताार पानी की आवक बनी हुई है। 23 फीट की भराव क्षमता वाला गंभीरी बांध रविवार रात तक 21 फीट हो गया। गंभीरी बांध में पानी की आवक अच्छी जारी है। दूसरे दिन बांध में दो फीट का गेज पडा। अब लोगों में उत्सकुता हो गई कि गंभीरी बांध कब ओवरफलो होगा।

हालांकि तेज बारिश नहीं हो रही है। लेकिन नीमच खासकर मध्यप्रदेश क्षेत्र में हो रही बारिश से पानी की आवक बांध क्षेत्र में हो रही है। कदमाली नदी में पानी की आवक होने से गंभीरी बांध का गेज बढ़ता गया। हालांकि अब फैलाव अधिक होने से गेज बढ़ोतरी में समय लग रहा है। दूसरी ओर माेरवन बांध को लेकर भी उत्सुकता बनी हुई है। मोरवन बांध भी 52 फीट की भराव क्षमता के मुकाबले शाम पांच बजे तक 51 फीट तक भर चुका था। ऐसे में एक फीट और भरने के बाद मोरवन बांध का पानी छलकेगा तो गंभीरी बांध में आएगा। कैचमेंट एरिया कम है। ऐसे में पानी एमपी का पहले ही कदमाली व गंभीरी नदी होते हुए बांध में आ रहा है। वहीं बाड़ी बांध का गेज अभी मात्र 50 सेमी हुआ है। जबकि भावलिया बांध के भरने के बाद अब उस पर 20 सेमी की चादर चल रही है। सरसी का नाका पहले ही भर चुका है।

इसी तरह अब बस्सी बांध भी पौने दो फीट खाली रहा है। बस्सी बांध दस मीटर से अधिक भर चुका है वही मोडिया महादेव पर अभी भी ढाई इंच की चादर चल रही है। वहीं ओराई बांध भी अब एक फीट ही खाली रहा है। इस बांध का गेज 30 फीट पहुंच गया है। हालांकि अलर्ट के उलट बारिश का दौर रविवार को कमजोर पड़ गया। दिनभर सूखा बीतने के अलावा जिले में कुछ क्षेत्रों में जरुर रिमझिम बारिश हुई। शाम पांच बजे तक वागन व बस्सी बांध पर आधा आधा इंच बारिश हुई। इससे पूर्व रविवार सुबह आठ बजे तक बीते 24 घंटों में सबसे ज्यादा बारिश डूंगला क्षेत्र में दो इंच व कपासन में डेढ़ इंच बारिश दर्ज की गई। दूसरे दिन भी डेढ़ गंभीरी, वागन, ओराई, बस्सी, बाडी मान सरोवर, घोसुंडा, सांकलखेड़ा, मोड़िया महादेव, भावलिया, वागली सहित डेढ़ दर्जन बांधों में पानी की आवक हुई। हालांकि घोसुंडा बांध में पानी की आवक धीमी है।बारिश का क्रम टूटने के साथ ही तापमान में फेरबदल हुआ है। मौसम विभाग के अनुसार रविवार को अधिकतम अधिकतम 30.3 औैर न्यूनतम तापमान 24.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

मौसम अलर्ट: जिले में अभी चार-पांच दिन बरसात की संभावना
पिछले 24 घंटों में राज्य के लगभग सभी स्थानों पर मेघगर्जन के साथ बारिश दर्ज की गई है। कम दबाव का सिस्टम आज भी दक्षिणी राजस्थान व आसपास के क्षेत्र के ऊपर बना हुआ है। दूसरी और बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र और तीव्र होकर अब कन्वर्ट हो चुका है। इसके अगले 24 घंटों में और तीव्र होकर सिस्टम बनने की संभावना है। आगामी दिनों में पूर्वी राजस्थान के ज्यादातर भागों में जबकि पश्चिमी राजस्थान के कुछ भागों में मानसून के सक्रिय बने रहने के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं। उदयपुर संभाग व आसपास के जिलों में कहीं-कहीं भारी बारिश का दौर आगामी चार-पांच दिन बने रहने की संभावना है।
-राधेश्याम शर्मा, निदेशक मौसम केंद्र जयपुर

खबरें और भी हैं...