पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पर्यावरण चेतना:सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पौधे लगाए, कोरोनाकाल में ऑक्सीजन की कमी बताते हुए चेताया भी

काछोला8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र परिसर में पाैधराेपण करते हुए। - Dainik Bhaskar
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र परिसर में पाैधराेपण करते हुए।

परमात्मा, पुरुष (आत्मा) और प्रकृति तीनों अविनाशी हैं। इनका अंत नहीं है। यह बात सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय तपस्या भवन की संचालक विभूति दीदी ने रविवार काे पौधरोपण समाराेह में कही।

उन्होंने कहा कि कोरोना काल में संसार ने ऑक्सीजन की कमी झेली है। लाखों रुपए देने पर भी कई बीमाराें को ऑक्सीजन नहीं मिली थी। जबकि प्रकृति हमें पौधों के माध्यम से ऑक्सीजन मुफ्त देती है। प्रकृति का सम्मान करना चाहिए। श्यामलाल आचार्य, डॉ. मयंक जैन, डॉ. ऐशवर्य सैनी, डॉ रविंद्र डाबी, मेल नर्स महावीर प्रसाद माली, राजकुमार सोनी, सीमा दीदी आदि उपस्थित थे।

हर साल पांच पाैधे लगाएंगे राज्यास के युवा .

नई राज्यास के युवकों ने श्मशान घाट में पौधरोपण किया। साथ ही हर साल पांच-पांच पौधे लगाने का संकल्प भी लिया। विष्णुकुमार शर्मा, महावीर लक्षकार, जगदीश प्रजापत, सुशीलकुमार शर्मा, प्रधान शर्मा, शंकर गोस्वामी आदि ने सहयोग किया। हिंदुस्तान जिंक, महिला एवं बाल विकास विभाग, केयर इंडिया संचालित खुशी परियोजना की क्लस्टर कोर्डिनेटर गायत्री कीर, आंगनबाड़ी स्टाफ, सरपंच सत्यनारायण भील की मौजूदगी में आंगनबाड़ी केंद्र व सामुदायिक भवन परिसर में पाैधे लगाए।

खबरें और भी हैं...