नगर परिषद में बड़ी गड़बड़ी:4 निविदाओं में पूल कर बांटे 2 करोड़, 12 काम सभापति और चार काम आयुक्त के लिए छाेड़े

भीलवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्वायत्त शासन विभाग के निदेशक को शिकायत पर भास्कर पड़ताल

नगर परिषद में कराेड़ाें रुपए के टेंडरों में गड़बड़ी हुई है। इन टेंडराें में पूल करने के लिए ठेकेदाराें ने शहर से 65 किलोमीटर दूर लाडपुरा काे चुना ताकि गड़बड़ी का भनक नहीं लगे। एनआईटी नंबर सात व आठ के पूल लाडपुरा में किए। सूत्रों के अनुसार, इसमें जाे ठेकेदार व अन्य लाेग पहुंचे उनकाे दाे कराेड़ रुपए बांटने के लिए पूल बना गया।

इसकी शिकायत अब स्वायत्त शासन विभाग के निदेशक भवानीसिंह देथा काे की गई है। इसमें लिखा कि एनआईटी नंबर सात, आठ व नाै में पांच से दस प्रतिशत तक बिलाे काम दिए गए हैं। सूत्राें के अनुसार, नगर परिषद के कामाें का यह पूल लाडपुरा में हुआ है जिसमें करीब दाे कराेड़ रुपए ठेकेदार व अन्य लाेगाें में बांटे गए हैं। इसमें कुछ ठेकेदाराें काे ताे अभी तक वर्कऑर्डर भी जारी नही किए हैं। इन टेंडराें में कई काम ऐसे है जाे वर्तमान में जरूरी नहीं है लेकिन कराेड़ाें रुपए के काम दे दिए। बताया गया कि पूल में 12 काम सभापति और 4 काम आयुक्त के लिए भी छोड़े गए हैं ताकि वे अपने चहेतों को फायदा दिला सके।

मामला निविदा 7 में 23 काम है। जिसमें नाली निर्माण, सीसी राेड़, सामुदायिक भवन आदि काम है। इसी तरह एनआईटी नंबर आठ में 23 काम है। इन दाेनाें के काम का पूल किया गया। इसी तरह एनआईटी नंबर नाै के 29 काम है जिसे भी यहां खाेला गया। इसी तरह एनआईटी नंबर दस में 29 है जिसे भी खाेल दिया है।

सवाल नगर परिषद की ओर से अब तक किए सीसी सड़क निर्माण, नाली निर्माण में पहले 29, 45, 55 व 58 प्रतिशत बिलाे तक टेंडर हुए हैं। इस बार मात्र 12 से 15 प्रतिशत बिलाे में टेंडर किए गए हैं। इससे स्पष्ट है कि इसमें ठेकेदाराें काे फायदा पहुंचाने के लिए गड़बड़ी हुई है।

जल्दबाजी नगर परिषद सभापति राकेश पाठक की ओर से गत दिनाें सभी 70 वार्डाें में 15-15 लाख रुपए के काम लगाए थे। अभी तक कई वार्डाें में यह काम चालू ही नहीं हुए हैं। वहीं अभी जाे गड़बड़ी के टेंडर हुए हैं इन कामाें के वर्कऑर्डर भी सात दिन में जारी हाे गए और इसमें काम भी चालू कर दिया जाे संदेह के घेरे में हैं।

शहर में अभी मूलभूत सुविधाओं की कमी और स्वागतद्वार के लिए डेढ़ कराेड़ का टेंडर

नगर परिषद ने इन टेंडराें में स्वागत द्वार के नाम पर बड़ा बजट जारी किया है। एनआईटी नंबर सात में वार्ड नंबर 70 में 25 लाख रुपए का जवाहरनगर में स्वागतद्वार के नाम पर टेंडर किया है। इसी तरह वार्ड नंबर 19 में आजादनगर चाैराहे पर 40 लाख रुपए के स्वागत द्वार का टेंडर हुआ है। वार्ड नंबर 42 में भी 30 लाख का स्वागत द्वार काम जारी किया है। इसी तरह वार्ड नंबर 49 में 40 लाख का स्वागतद्वार व दिशा-सूचक बाेर्ड का काम जारी किया है। वार्ड नंबर 23 में 25 लाख का स्वागत द्वार दिया है।

नगर परिषद में सबकुछ प्रक्रिया ऑनलाइन है। इसमें काेई कमी नहीं है। शिकायतकर्ता आदतन है। हमने सरकार के नियमाें का पालन किया है। कुछ लाेग जानबूझकर शिकायत करना चाहते हैं ताकि काम नहीं हाे और मेरी बदनामी हाे। राकेश पाठक, सभापति

खबरें और भी हैं...