पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bhilwara
  • 96 Lakhs Spent On Cleaning 44 Community Toilets In 15 Months, The Commissioner Is Extending The Contract Of The Same Firm, The Chairman Said Will Not Let

बिग कंट्राेवर्सी:15 माह में 44 सामुदायिक शौचालय की सफाई पर 96 लाख खर्च उसी फर्म का ठेका बढ़ा रहीं अायुक्त, सभापति बोले-नहीं हाेने दूंगा

भीलवाड़ा2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पंचमुखी मोक्षधाम के पास सामुदायिक शौचालय। - Dainik Bhaskar
पंचमुखी मोक्षधाम के पास सामुदायिक शौचालय।
  • सभापति- बिना विशेष परिस्थिति टेंडर की समयावधि नहीं बढ़ाई जाए, आयुक्त- नियमानुसार बढ़ा सकते हैं टेंडर का समय
  • पुर के 4 वार्डों के पार्षद भी कर चुके हैं सामुदायिक शौचालय में फैली गंदगी और टूट-फूट की शिकायत

शहर के 44 सामुदायिक शौचालयों की सफाई पर 15 महीने में 96 लाख रुपए फूंक डाले। उधर, अधूरी सफाई पर अधिकांश पार्षद नाराज हाे गए। अब उसी फर्म काे दाेबारा टेंडर देने पर सभापति राकेश पाठक व आयुक्त दुर्गाकुमारी आमने-सामने हाे चुके हैं।

आयुक्त चाहती है कि जाे फर्म इन सामुदायिक शाैचालयाें की सफाई करती है, उसका ठेका आगे बढ़ा दिया जाए। इसके लिए उन्हाेंने नाेटशीट पर आदेश जारी कर दिया है। वहीं सभापति पाठक चाहते हैं कि सफाई के लिए नई फर्म काे ठेका दिया जाए। ऐसे में परिषद में यह बड़ा विवाद हाे गया है।

सबसे खास बात है कि करीब एक कराेड़ रुपए खर्च करने के बावजूद इन शौचालयों की तस्वीर गंदी है। इतने रुपए खर्च होने के बाद भी सामुदायिक शौचालयाें उपयाेग करने लायक नहीं है क्याेंकि गंदगी से अटे पड़े है।

सामुदायिक शौचालय की गंदगी के खिलाफ कई पार्षद भी शिकायत कर चुके है। इसके बावजूद मौजूदा ठेकेदार फर्म खुशी एंटरप्राइजेज की समयावधि बढाने की तैयारी की जा रही है जबकि इस पर विवाद हाे गया है।

  • टेंडर को 3 माह बढ़ाया... वार्डों मेें एक वर्ष के लिए 77 लाख का टेंडर किया है। खुशी एंटरप्राइजेज की टेंडर अवधि मार्च थी जिसे जून तक किया। अब फिर बढ़ाने की नोटिंग लिपिक देवीलाल ने की। आयुक्त ने सहमति जता दी है। जिसमें लिखा नए टेंडर होने या तीन महीने की अवधि से जो पहले तब तक के लिए।
  • क्याें कर रहे पैरवी, समझ से परे...वर्तमान में खुशी इंटरप्राइजेज के पास शाैचालय सफाई का टेंडर है। अब ऑयुक्त इसी टेंडर की समयावधि बढ़ाना चाहती हैं। वहीं बोर्ड बैठक में टेंडर सुलभ इंटरनेशनल को सौंपने पर चर्चा हुई थी। अब यह समझ से परे है कि जिसका काम अच्छा नहीं है उसे टेंडर देने की जिद क्याें है।
  • सफाई से खुश नहीं पार्षद...पुर के चार वार्डों में 8 सामुदायिक शौचालय हैं। हर वार्ड के शौचालय के लिए वहां के पार्षदों ने शिकायत की है। ठेकेदार महादेव लोट की ओर से सफाई सही से नहीं कराई जाती है। इसके बावजूद पार्षदों की शिकायतों का समाधान नहीं हो पा रहा है। यही हालात शहर के सामुदायिक शाैचालयाें के हैं।
  • सभापति की व्यवस्था काे नकारा...सभापति राकेश पाठक ने एक आदेश जारी किया था। जिस वार्ड का शौचालय होगा उसका पार्षद सफाई का वेरिफिकेशन करेगा। तब जाकर परिषद की ओर से ठेकेदार को भुगतान किया जाएगा। नए आदेश के बाद अप्रैल से ही ठेकेदार महादेव लोट ने एक बिल भी नहीं भेजा।

किसी भी निविदा की समयावधि नहीं बढ़ाई जाए। विशेष परिस्थिति हो तभी ऐसा हो। इसके बावजूद टेंडर की समयावधि बढ़ाने की कोशिश हो रही है तो यूओ नोट निकाल पाबंद करेंगे। पुराने टेंडर की अवधि नहीं बढ़ेगी। -राकेश पाठक, सभापति

नियमों के अनुसार ही टेंडर की समयावधि बढ़ाई जा रही है। मेरे कार्यालय के लिपिक ने बताया कि नियमों के अंतर्गत ही टेंडर की समयावधि बढ़ाई जा सकती है तो बढ़ाने के लिए मैंने भी सहमति दे दी है - दुर्गाकुमारी, आयुक्त

खबरें और भी हैं...