पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रेमडेसिविर इंजेक्शन:मां काे बचाने रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए 7 दिन से भटक रहा युवक

भीलवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सीएमएचओ व सांसद से भी लगा चुका गुहार

शहर के जादनगर की एक महिला की करीब 15 दिन से तबीयत खराब है। सांस लेने में तकलीफ होने पर महात्मा गांधी अस्पताल में दिखाया, जहां ऑक्सीजन लेवल 70 और सीटी स्कोर 21 आया।

बेटे ने 3-4 बार आग्रह किया, लेकिन हॉस्पिटल में बेड नहीं मिला ताे निजी हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया। बेटा 2 रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए 29 तारीख से कवायद कर रहा है, लेकिन नहीं मिल रहा है। इसके लिए उसने सीएमएचओ ऑफिस से लेकर सांसद तक गुहार लगा दी।

आजादनगर निवासी धीरज कुमार ने बताया कि उनकी मां कंचन देवी काे कुछ दिन पहले सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। एमजीएच और काेविड सेंटर पर भी भर्ती हाेने की गुहार की, लेकिन ऑक्सीजन वाला बेड नहीं मिला। निजी अस्पताल में भर्ती करवाया। 9 दिन में इलाज का बिल करीब 1 लाख रुपए बन गया। यहां किराये से रहता है। फैक्ट्री में नाैकरी करता है। किसी तरह से रुपए का जुगाड़ कर इलाज करवा रहा हूं।

डाॅक्टर ने मां के इलाज के लिए 2 रेमडेसिविर इंजेक्शन 29 अप्रैल को लिखे, लेकिन गुरुवार दाेपहर तक भी नहीं मिले। सीएमएचओ ऑफिस गया। वहां आश्वासन मिला, लेकिन काेई सूचना नहीं मिली। सांसद तक मांग पहुंचाने के अलावा 181 हैल्पलाइन पर भी 4-5 बार शिकायत करने के बावजूद कुछ नहीं हुआ।

खबरें और भी हैं...