पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bhilwara
  • Acharyashree's Debut On 17th; One Day Stay In Rajendramarg School, Chaturmasik Mangal Entry In Terapanthnagar On The Morning Of 18

धर्म समाज:आचार्यश्री का 17 काे पदार्पण; एक दिन राजेंद्रमार्ग स्कूल में प्रवास, 18 काे सुबह तेरापंथनगर में चातुर्मासिक मंगल प्रवेश

भीलवाड़ा20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • आचार्य महाश्रमण बुधवार काे 13 किमी विहार कर गंगरार पहुंचे, प्रवचन में कहा स्वयं के हाथाें में सुख का स्त्राेत

श्री जैन तेरापंथ धर्म संघ के 11वें आचार्यश्री महाश्रमण का चातुर्मासिक मंगल प्रवेश 18 जुलाई सुबह 9.21 बजे चित्ताैड़गढ़ राेड पर ओवरब्रिज के पास नवनिर्मित तेरापंथनगर, आदित्य विहार में हाेगा। एक दिन पहले 17 जुलाई को आचार्यश्री का भीलवाड़ा पदार्पण हाेकर राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय राजेन्द्र मार्ग में प्रवास रहेगा।

साध्वी प्रमुखा कनकप्रभा का प्रवास महावीर स्कूल में रहेगा। वर्तमान में राज्य सरकार व जिला प्रशासन द्वारा जारी कोरोना गाइडलाइन के तहत जुलूस व रैली का आयोजन नहीं होगा। आचार्यश्री महाश्रमण चातुर्मास प्रवास व्यवस्था समिति अध्यक्ष प्रकाश सुतरिया ने बताया कि श्रद्धालु ऑन लाइन सोशल मीडिया के माध्यम से ही आचार्यश्री के चातुर्मासिक प्रवेश के ऐतिहासिक पलों के साक्षी बन सकेंगे।

आचार्यश्री महाश्रमण का 2021 का चातुर्मासिक प्रवास निर्विघ्न संपन्न हाेने के साथ ही सभी का स्वास्थ्य उत्तम रहें। इसके लिए कोरोना गाइड लाइन व सुरक्षा व्यवस्था की पूरी तरह पालना करने के साथ ही साधु-साध्वियों के स्वास्थ्य लाभ में सहभागी बनकर अपने सामाजिक उत्तरदायित्व का निर्वहन करें।

आचार्यश्री ने विहार मार्ग में मिले श्रद्धालुओं काे नशामुक्ति की प्रेरणा दी ताे लाेगाें ने जेब से गुटखा, बीड़ी निकाल फेंके

तेरापंथ धर्मसंघ के 11वें आचार्य महाश्रमण अपनी अहिंसा यात्रा के साथ भीलवाड़ा की ओर अग्रसर है। गुरुदेव ने बुधवार सुबह चित्ताैड़गढ़ जिले के पुठोली से विहार किया। मार्ग में कई जगह आचार्यश्री ने श्रद्धालुओं के प्रतिष्ठान आदि के समक्ष मंगलपाठ कर आशीर्वाद दिया।

हिंदुस्तान जिंक फैक्ट्री के अधिकारियों ने भी आचार्यश्री के दर्शन किए। मार्गस्थ मार्बल फैक्ट्री के कर्मचारियों को जब आचार्य महाश्रमण ने नशा मुक्ति के लिए प्रेरणा दी तो उन्होंने उसी क्षण अपनी जेब से गुटखा, तंबाकू, बीड़ी आदि निकाल कर सड़क पर फेंक दिए।

आचार्य की प्रेरणा से सभी ने नशामुक्त रहने का संकल्प किया। अहिंसा यात्रा के गंगरार पदार्पण पर सकल समाज ने स्वागत किया। करीब 13 किलोमीटर का विहार कर आचार्य गंगरार के राजकीय माध्यमिक विद्यालय में प्रवास के लिए पहुंचे।

बहिर्विहार से गुरुचरणों में पहुंची साध्वीवृंद, हुआ आध्यात्मिक मिलन

इस अवसर पर बहिर्विहार से समागत साध्वीवृंद ने भी अपनी भावाभिव्यक्ति दी। साध्वी श्री कमलप्रभा, साध्वी श्री उर्मिलाकुमारी, साध्वी श्री शुभप्रभा, साध्वी श्री सम्पूर्णयशा, साध्वी विवेकश्री जी ने अपने विचार रखे। गंगरार पदार्पण पर अभिवंदना करते हुए श्री मनोहर कर्णावट, श्रीमती पूनम कर्णावट, पल-पाखी कर्णावट, जीविका चोरडिया, निस्का गांधी ने प्रस्तुति दी। इससे पहले साध्वी कमलप्रभा बोरज ठाणा-19 अणुव्रत साधना सदन स्कूल से 11 जुलाई को विहार करके जी स्कूल होते हुए नितिन स्पिनर्स, सिंघवी वाटर पार्क से गंगरार पहुंचे।

ॉबुधवार सुबह गंगरार में तेरापंथ धर्म संघ की साध्वी प्रमुखाश्री एवं सहवर्ती साध्वीवृंद से आध्यात्मिक मिलन हुआ। आपसी प्रेम, सौहार्द्र की झलक दिखलाता यह दृश्य श्रावकाें काे आकर्षित कर रहा था। गुरुभक्ति श्रद्धा आस्था की अनुपम देन यह संघ और ऐसे विनय समर्पण वाले अवसर संघ की प्रभावना को बढ़ाते हैं। साध्वी वृंद ने साध्वी प्रमुखा की सुख पृच्छा करते हुए वंदना की। यह आध्यात्मिक मिलन सबके लिए प्रेरणा दायक बना। उन्हाेंने संघ महानिदेशिका साध्वी प्रमुखा का गीतिका के माध्यम से स्वागत किया।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...