• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bhilwara
  • Administration Will Not Be Able To Sit On The Stage In The Company Of Villages, The Leader Mike Will Be The Same, Rake Imposed On The Welcome Speech

शिविराें में सियासत:प्रशासन गांवों के संग में मंच पर नहीं बैठ सकेंगे नेता माइक एक ही होगा, स्वागत-भाषण पर लगाई राेक

भीलवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • राजनीतिक खींचतान बढ़ी ताे प्रशिक्षु आईएएस ने आदेश निकाला

प्रशासन गांवाें के संग अभियान के तहत जिले में चल रहे शिविराें में सियासत हाे रही है। इसे लेकर अब नाैकरशाही सख्त हाे गई है। मांडलगढ़ व बिजाैलियां क्षेत्र में जनप्रतिनिधियाें में चल रही खींचतान पर उपखंड अधिकारियाें ने दाे अलग-अलग आदेश जारी किए हैं। इनमें शिविर की नई गाइडलाइन जारी कर दी है। इन आदेशाें में शिविर में नेताओ के भाषण देने पर राेक लगा दी है साथ ही मंच पर नेताओं काे नहीं बिठाने का फरमान है।

मांडलगढ़ उपखंड अधिकारी एवं प्रशिक्षु आईएएस उत्साह चौधरी ने आदेश जारी किया है कि प्रशासन गांवाें के संग शिविराें में किसी भी अधिकारी व जनप्रतिनिधियों का माला एवं साफा पहनाकर स्वागत नहीं होगा। मंच पर तीन कुर्सियां लगाई जाएंगी। जिसमें शिविर प्रभारी, सह शिविर प्रभारी एवं विकास अधिकारी बैठेंगे। शिविर में माइक केवल एक ही होगा वह भी शिविर प्रभारी के पास रहेगा।

सम्मानित जनप्रतिनिधियों के लिए मंच के दाएं तरफ मात्र 5 कुर्सियां लगाई जाएगी। डीजे लगाया जाना तथा किसी भी प्रकार के प्रदर्शन पर पूर्ण पाबंदी होगी। जनप्रतिनिधि जनता के कार्यों के लिए शिविर प्रभारी को बता सकेंगे लेकिन राजनीतिक गतिविधियों एवं उद्बोधन पर प्रतिबंध होगा। इस आदेश के कुछ देर बाद बिजाैलियां एसडीएम सीमा तिवाड़ी ने भी इसी तरह का आदेश जारी किया है। इसमें भी इसी तरह की गाइडलाइन दी है।

ऐसा कुछ नहीं है। हमारे यहां कैंप लगभग पूरे हाेने वाले हैं। काेटड़ी सहित सभी जगह कैंप की अच्छी प्राेग्रेस रिपाेर्ट है। मंशा है कि शिविराें में आमजन के काम हाे। इसमें सभी का सहयाेग अपेक्षित रहता है। उत्साह चाैधरी, प्रशिक्षु आईएएस एवं उपखंड अधिकारी मांडलगढ़

इस आदेश की इसलिए पड़ी जरूरत

मांडलगढ़ व बिजाैलियां उपखड क्षेत्र में चल रहे शिविराें में गत दिनाें पूर्व विधायक विवेक धाकड़ काे कुर्सी नहीं देने पर विवाद हाे गया था। इसमें कुछ जगह भाजपा व कांग्रेस काे लेकर खींचतान हाे रही है। शिविराें में अधिकांश समय भाषण व स्वागत में चले जाने से काम नहीं हाे रहे हैं इसलिए इन अधिकारियाें ने यह आदेश जारी किए हैं।

खबरें और भी हैं...