पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

अब भाजपा विधायकों की बाड़ेबंदी...:भाजपा ने जिले में पहली बार चुनाव जीते 3 विधायकाें काे प्लेन से पोरबंदर भेजा...आज साेमनाथ दर्शन करेंगे

भीलवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आसींद, जहाजपुर व मांडलगढ़ विधायकाें काे भेजा गुजरात

राजस्थान में विधायकों की बाड़ेबंदी पर कांग्रेस को घेरने वाली विपक्षी भाजपा ने भी अब अपने विधायकों की खरीद-फरोख्त के डर से बाड़ेबंदी शुरू कर दी है। शनिवार काे जयपुर एयरपोर्ट से भाजपा के छह विधायक चार्टर्ड प्लेन से गुजरात के पोरबंदर के लिए रवाना हुए। इन विधायकों में से तीन भीलवाड़ा जिले के विधायक भी हैं। ये तीनाें पहली बार चुनाव जीतकर विधायक बने हैं।

इनमें आसींद के विधायक जब्बर सिंह सांखला, जहाजपुर के गोपीचंद मीणा और मांडलगढ़ के गोपाल शर्मा शामिल हैं। इन तीनों को भारतीय जनता पार्टी ने पहली बार चुनावी समर में मैदान में उतारा था और तीनों चुनाव जीते थे। जब्बर सिंह सांखला आसींद में चाय की थड़ी लगाते थे।

गोपीचंद मीणा शिक्षा विभाग में पीटीआई थे और गोपाल शर्मा खनन व्यवसायी हैं। शर्मा भीलवाड़ा में नगर विकास न्यास के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। जिले के बाकी दाे भाजपा विधायकों में भीलवाड़ा शहर से विट्ठलशंकर अवस्थी और शाहपुरा के विधायक पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल हैं।

5 सवाल-जवाब में समझें भाजपा की बाड़ेबंदी काे लेकर रणनीति और उनके मकसद के बारे में
आखिर इन तीन विधायकाें काे ही क्याें बुलाया बाड़ेबंदी में?
सूत्राें के अनुसार भाजपा पहले अपनी कमजोर कड़ियों को सुरक्षित करने में जुटी है। ये तीनाें पहली बार विधायक बने हैं। भाजपा के प्रदेश नेताओं काे सूचना मिली कि 14 अगस्त से शुरू हाेने वाले विधानसभा सत्र काे लेकर कांग्रेस भाजपा के विधायकाें के संपर्क में है। भाजपा काे डर है कि कहीं कांग्रेस उनके विधायकाें काे अपने ग्रुप में शामिल न कर लें, इसलिए बाड़ेबंदी शुरू कर दी है।
आखिर गुजरात ही क्याें भेजा गया इनकाे?
गुजरात में भाजपा की सरकार है, इसलिए विधायकाें की सुरक्षा और उनमें सेंधमारी काे लेकर पार्टी पूरी तरह निश्चिंत है। उनके वहां पर रहने, खाने-पीने और घूमने में किसी तरह की काेई दिक्कत नहीं है।
क्या भाजपा काे विधायकाें के पाला बदलने का डर है?
पाेरबंदर ले जाए विधायकाें की हर गतिविधि पर पूरी तरह से नजर रखी जा रही है। उन पर नजर रखने में पार्टी के ही कुछ पदाधिकारियाें काे लगाया है। इनकाे एक-एक विधायक की जिम्मेदारी दी है। पार्टी के अलावा सेंट्रल व गुजरात सरकार की इंटेलीजेंस एजेंसियां भी नजर रखे हैं।
कब बनी भाजपा की बाड़ेबंदी की रणनीति?
जब्बर सिंह सांखला और गोपीचंद मीणा को प्रदेश भाजपा के नेताओं ने 3 दिन पहले फोन कर जयपुर बुलाया था। मांडलगढ़ के विधायक गोपाल शर्मा को एक दिन पहले ही जयपुर बुलाया। इसके बाद शनिवार काे तीनों विधायकों को पोरबंदर भेज दिया।
बाकी दाे विधायकाें काे क्याें नहीं बुलाया?
भाजपा अपने सभी 72 विधायकों को एकत्र करेगी। भीलवाड़ा के विधायक विट्ठलशंकर अवस्थी और शाहपुरा के विधायक कैलाश मेघवाल को भी जल्द मध्यप्रदेश और गुजरात दोनों में से एक स्थान पर ले जाया जा सकता है। अभी फिलहाल इन्हें अपने-अपने शहर मेंं ही रुकने के निर्देश दिए हैं।

आज साेमनाथ भगवान के दर्शन का कार्यक्रम

भाजपा ने तीनाें विधायकाें काे शनिवार रात तक पाेरबंदर के ही एक रिजाेर्ट में ठहराया हुआ था। शनिवार शाम तक के प्लान के अनुसार रविवार काे वहां ठहरे सभी विधायकाें काे भगवान साेमनाथ के दर्शन के लिए ले जाया जा सकता है। हालांकि पार्टी की रणनीति के अनुसार ऐनवक्त पर प्लान बदल सकता है।

गहलाेत खेमे के दाेनों विधायक 29 दिन से बाड़ेबंदी में
कांग्रेस के जिले में मांडल और सहाड़ा विधानसभा से दाे विधायक हैं। मांडल विधायक रामलाल जाट और सहाड़ा विधायक कैलाश त्रिवेदी दाेनाें मुख्यमंत्री अशाेक गहलाेत के खेमे में हैं। दाेनाें ही 29 दिन से गहलाेत की ओर से की गई बाड़ेबंदी में हैं। ये पहले जयपुर और पिछले कुछ दिनाें से जैसलमेर के हाेटल में ठहरे हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- लाभदायक समय है। किसी भी कार्य तथा मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। फोन कॉल के माध्यम से कोई महत्वपूर्ण सूचना मिलने की संभावना है। मार्केटिंग व मीडिया से संबंधित कार्यों पर ही अपना पूरा ध्यान कें...

और पढ़ें