पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

मौसम:पिछले साल इस समय तक 81 फीसदी बारिश हाे चुकी थी, इस बार मानसूनी तंत्र देर से सक्रिय हाेने से कम हुई

भीलवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गत वर्ष 2019 में 11 अगस्त तक 81 प्रतिशत बारिश हाे चुकी थी। जबकि इस साल अब तक केवल 39.35 प्रतिशत यानि 253 एमएम ही बारिश हुई। जिले में औसत 644 एमएम बारिश का अांकड़ा माना जाता है। माैसम विभाग के डायरेक्टर राधेश्याम शर्मा ने बताया कि हर साल मानसून तंत्र एक जैसा तथा एक समय जैसा नहीं आता है।

इस बार बंगाल की खाड़ी में जून माह में लाे प्रेशर बन गया ताे मानसून जल्दी अा गया, लेकिन इसके बाद जुलाई में लाे प्रेशर नहीं बना ताे बारिश नहीं हुई। अब अगस्त के पहले सप्ताह से ही बंगाल की खाड़ी में लाे प्रेशर बना तथा मानसूनी हवाएं चलने लगी। इससे बारिश का मानसूनी तंत्र सक्रिय हाे गया है। पूर्वी राजस्थान के भरतपुर, जयपुर, अजमेर, कोटा तथा उदयपुर संभाग में कहीं-कहीं भारी तथा एक दो जगह अति भारी बारिश की संभावना है। 13-14 अगस्त को पूर्वी राजस्थान के आसपास एक परिसंचरण तंत्र बनने की संभावना है। इसके प्रभाव से बारिश में बढ़ोतरी होगी तथा राज्य के कुछ स्थानों पर 13-14 अगस्त को भारी बारिश व कहीं-कहीं अतिभारी बारिश की संभावना है।

दो डिग्री गिरा तापमान: मंगलवार काे बादल छाए रह। दाेपहर में अच्छी बारिश हुई। शाम को भी कुछ देर बूंदाबांदी रही। अधिकतम तापमान 29.9 डिग्री तथा न्यूनतम 25.4 डिग्री रहा। साेमवार काे अधिकतम तापमान 32 डिग्री व न्यूनतम तापमान 25.4 डिग्री तथा रविवार काे अधिकतम 34 व न्यूनतम 24.8 डिग्री रहा था।

40 प्रतिशत तब भर चुके थे बांध इस समय तक

सिंचाई विभाग से मिले आंकड़ाें के अनुसार अब तक बांध 11 प्रतिशत तक ही भरे हैं। जबकि गत साल 11 अगस्त तक 40 प्रतिशत भर चुके थे। इस बार जमकर बारिश नहीं हाेने से कई जलाशय अभी तक खाली ही पड़े हैं। पड़ाेसी जिले में स्थित मातृकुंडियां बांध भी पूरी तरह से खाली है। मातृकुंडियां बांध भरने के बाद वहां का पानी मेजा बांध तक पहुंचता था। शहर में जब चंबल याेजना नहीं आई थी, पूरी शहर मेला बांध पर ही निर्भर था।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें