पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bhilwara
  • Car Stolen Smart Cards Of Others, Printed Their Names, Numbers And Got The Vehicles Seized In The Finance Companies And Transferred The Names Of Others

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

स्मार्ट फर्जीवाड़ा:दूसरों की गाड़ी के स्मार्ट कार्ड चुराकर उनके नाम, नंबर प्रिंट करा फाइनेंस कंपनियाें में जब्त गाड़ियां करा दी दूसराें के नाम ट्रांसफर

भीलवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • फाइनेंस कंपनियाें की ओर से जब्त दुपहिया वाहनाें के ट्रांसफर से जुड़ा मामला, दाे कर्मचारियाें की लापरवाही

शाहपुरा डीटीओ ऑफिस के भ्रष्टाचार से जुड़े दाे वीडियाे वायरल हाेने का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ कि भीलवाड़ा डीटीओ ऑफिस में फर्जीवाड़ा कर ऑरिजनल आरसी (स्मार्ट कार्ड) से फ्रेब्रिकेटेड आरसी तैयार कर टू व्हीलर गाड़ियाें काे ट्रांसफर कराने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। भास्कर पड़ताल में सामने आया कि यह मामला फाइनेंस कंपनियाें की और से जब्त दुपहिया वाहनाें के ट्रांसफर से जुड़ा है।

इस काम के लिए मुख्य रूप से कुछ फाइनेंसर, डीटीओ ऑफिस में काम करने वाले कुछ एजेंट, सरकारी कर्मचारियाें के साथ काम करने वाले पर्सनल कर्मचारी (स्टेपनी) की ओर से एक गिराेह बनाकर काम करने की बात सामने आई है। डीटीओ ऑफिस के दाे कर्मचारियाें की भी लापरवाही सामने आई है।

प्रारंभिक जानकारी के अनुसार ऐसे करीब एक दर्जन मामले पकड़ में आए हैं। लेकिन विस्तृत जांच में ही कई और मामले भी खुल सकते हैं। गिराेह के लाेगाें ने वाहन ट्रांसफर के लिए किसी दूसरे की ऑरिजनल आरसी काे इस तरह नए सिरे से प्रिंट करवाया कि ऑरिजनल और फेब्रिकेटेड आरसी में फर्क ही पता नहीं चलता।

समझें प्रदेश में पहली बार सामने आए फर्जीवाड़े काे...इस स्मार्ट चिप में लिखा नाम ऑरिजनल है गिराेह ने बाहर दूसरे नाम, नंबर व पता प्रिंट कराकर गाड़ी ट्रांसफर करवा दी जबकि स्मार्ट चिप में ऑरिजनल मालिक की जानकारी अलग है

गाड़ी ट्रांसफर का नियम : गाड़ी की मूल आरसी जरुरी, फाइनेंस कंपनी के नाम पर आने के बाद हाेती है ट्रांसफर...दाे पहिया वाहन काे किसी दूसरे के नाम पर ट्रांसफर कराते समय स्मार्ट कार्ड के रूप में बनाई मूल आरसी जमा करानी हाेती है। गाड़ी ट्रांसफर हाेने के बाद फ्रेश आरसी जारी हाेती है।

नियमानुसार लाेन की किश्तें नहीं चुकाने पर फाइनेंस कंपनियाें की ओर से जब्त वाहनाें काे फाइनेंस कंपनियां खुद के नाम कराने और फ्रेश आरसी जारी करने के लिए आवेदन करती हैं। गाड़ी की मूल आरसी हाेने के बाद ही गाड़ी संबंधित फाइनेंस कंपनी के नाम हाेती है और इसके बाद फाइनेंस कंपनी किसी अन्य व्यक्ति काे वाहन बेच पाती है।

यह गड़बड़ी की : कंपनी के नाम गाड़ी करने का प्राेसेस खत्म कर दूसरी आरसी पर मूल जानकारी प्रिंट करवा कर दी ट्रांसफर...ट्रांसफर के लिए फाइनेंस कंपनी में जब्त गाड़ी की मूल आरसी जरुरी हाेती है। इसलिए इस गिराेह ने डीटीओ ऑफिस सहित कई अन्य जगहाें से कई पुरानी आरसी इकट्ठी की।

असल में ये आरसी अलग-अलग लाेगाें के नाम हाेती हैं लेकिन इन पर इस तरह गाड़ी की मूल आरसी पर लिखे नाम और पत्ते प्रिंट करवाए जाते हैं कि किसी काे पता नहीं चल सके। इसमें नीचे हस्तारक्षर डीटीओ के ऑरिजनल रहते हैं बाकी नाम, पता और नंबर चेंज कर दिया जाता है। मूल आरसी से लाेग फाइनेंस कंपनियाें के नाम आरसी कराने के बजाय सीधे खरीदार के नाम ट्रांसफर कराते हैं।

डीटीओ के हस्ताक्षर का उपयोग
इसलिए भीलवाड़ा डीटीओ के हस्ताक्षर युक्त आरसी से प्रदेश के कई दूसरे जिलाें में भी गाड़ियां ट्रांसफर हाे चुकी हैं। डीटीओ वीरेंद्र सिंह राठाैड़ काे मामले की जानकारी हाेने के बाद उन्हाेंने इसे गंभीरता से लेते हुए पुलिस में मुकदमा दर्ज करने की तैयारी शुरू कर दी है।
इन दाे कारणाें से किया गया फर्जीवाड़ा
पैसा: फाइनेंस कंपनियाें के नाम गाड़ी नहीं जाने से ट्रांसफर की करीब 500 रुपए की फीस का राजस्व का नुकसान हाेता है। इसके अलावा जब्त वाहनाें से संबंधित जानकारी की सूचना अखबाराें में विज्ञप्ति के रूप में प्रकाशित करने के प्राेसेस पर भी पैसा खर्च हाेता है।
समय: विज्ञप्ति प्रकाशित सहित पूरे काम में करीब तीन महीने का समय समय लगता है लेकिन गिराेह से जुड़े लाेग इसकाे एक सप्ताह में पूरा करवा लेते हैं।
फाइनेंशर सहित कुछ लाेगाें की ओर से किए जा रहे इस फर्जीवाड़े काे हमने पकड़ा है। इस मामले की तह तक जाने के लिए गाड़ी खुद के नाम ट्रांसफर करने के लिए आवेदन करने वालाें काे नाेटिस जारी कर रहे हैं ताकि पता चल सके कि वे लाेग फ्रेब्रिकेटेड स्मार्ट कार्ड आरसी कहां से लाए हैं। इसके अलावा विभाग के जिन भी कर्मचारियाें की लापरवाही रही है उन पर भी कार्रवाई की जाएगी। एक-दाे दिन में ही पुलिस में भी मुकदमा दर्ज करवाया जाएगा।
डाॅ. वीरेंद्र सिंह राठाैड़, डीटीओ

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थिति तथा समय में तालमेल बिठाकर कार्य करने में सक्षम रहेंगे। माता-पिता तथा बुजुर्गों के प्रति मन में सेवा भाव बना रहेगा। विद्यार्थी तथा युवा अपने अध्ययन तथा कैरियर के प्रति पूरी तरह फोकस ...

और पढ़ें