एक साथ दो बाल विवाह:10 से 12 साल के बच्चे शादी के बाद मंदिरों में धोक लगाने पहुंचे, सरकारी महकमे को खबर तक नहीं

भीलवाड़ाएक महीने पहले

राजस्थान में बाल विवाह के दो मामले सामने आए हैं। भीलवाड़ा में दो मासूम जोड़ों को कोटडी श्याम मंदिर में धोक (पूजा करने) दिलवाने के लिए लाया गया। चारों बच्चों की उम्र 10 से 12 साल बताई जा रही है। इन मासूमों को यह भी पता नहीं उनके हंसने खेलने की उम्र में उनके परिजनों ने उनके जीवन का बड़ा फैसला खुद ही कर दिया। वहीं, भीलवाड़ा के आसिंद में भी बाल विवाह का एक मामला सामने आया है।

दरअसल, मंगलवार को कोटडी श्याम मंदिर में दो मासूम जोड़ों को धोक दिलवाने के लिए उनके परिजन लेकर आए थे। यह बच्चें गेंदलिया के पास लसाड़िया गांव के रहने वाले हैं। एक दिन पहले ही इन दोनों मासूम जोड़ो की शादी की गई। दोनों जोड़ों के परिजनों ने आराम से मंदिर में धोक लगवाया। उसके बाद वहां से निकल भी गए। सबसे बड़ी बात कि खुलेआम हुई इस शादी की भनक गांव में किसी भी सरकारी कर्मचारी को नहीं पड़ी।

ऐसा ही एक दूसरा वीडियो आसींद का भी सामने आया। जहां दो मासूम बच्चों को शादी के बंधन में बांध दिया। उन्हें घर में ही धोक लगवाई गई।
ऐसा ही एक दूसरा वीडियो आसींद का भी सामने आया। जहां दो मासूम बच्चों को शादी के बंधन में बांध दिया। उन्हें घर में ही धोक लगवाई गई।

बाल विवाह का एक और वीडियो सामने आया
ऐसा ही एक दूसरा वीडियो आसींद का भी सामने आया। जहां दो मासूम बच्चों को शादी के बंधन में बांध दिया। उन्हें घर में ही धोक लगाई गई। यह वीडियो दो दिन पुराना बताया जा रहा है। बच्चों को यह पता नहीं कि उनकी शादी हो गई। वह अपनी मस्ती में ही नजर आ रहे हैं।

खबरें और भी हैं...