नया ट्रेंड:चुनौती वाला सेक्टर चुनकर पुरुषों की बराबरी कर रही हैं बेटियां

भीलवाड़ा9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ऑटोमोबाइल सेक्टर में अक्सर पुरुष ही दिखते हैं, जो टेक्निकल इश्यू को संभालते है। अब महिलाओं की भागीदारी बढ़ने लगी है। यहां तक कि कुछ ऑटोमोबाइल शोरूम में युवतियां लीड कर रही हैं। वे बाइक की टेक्निकल जानकारी भी दे रही हैं। ऐसे ही उदाहरण संदीप बजाज शोरूम में काम करने वाली दीपशिखा और तारा हैं। इन दोनों ने पुरुषों को भी मात दे रखी है। तारा और दीपशिखा का कहना है कि बैंक, फाइनेंस में बैंक हैंड जॉब कर सकती थी। लेकिन जिंदगी में चुनौतियां पसंद है। इसलिए इस जॉब का चयन किया। फ्रंट लाइन में कस्टमर को डील करना बहुत मुश्किल होता है वह भी तब जब आप एक लड़की हो। लेकिन हम इसे अच्छे से संभाल रही हैं। संदीप बजाज की सीईओ कृष्णा राठी ने बताया कि इनके स्किल्स से ही वे स्टार सेल्स वूमेन बनी हैं।

वूमेन-21 में नारी मन की भावनाओं को पेटिंग में उकेरा

भीलवाड़ा | 20 महिला कलाकारों ने नारी मन की भावनाओं को ऐक्रेलिक, पेन ड्राइंग, चारकोल, जल रंग से कैनवास पर उकेरा है। आकृति कला संस्थान नेे वूमेन-21 के नाम से प्रदर्शनी वकील कॉलोनी स्थित आकृति आर्ट गैलेरी में कार्यक्रम कराया। नारी स्वतंत्रता पर आधारित फ्रीडम, वाराणसी की गांठ, पुराने भीलवाड़ा की गलियां आदि विषयों पर पेटिंग बनाई है। संस्थान के सचिव सचिव कैलाश पालिया ने बताया कि आयल ऐक्रेलिक, पेन ड्राइंग, चारकोल, जल रंग आदि माध्यम में बनी कलाकृतियों में नारी मन की भावनाओं को अभिव्यक्त किया है। प्रदर्शनी में अदिति सुराणा, अक्षी मेहता, चहल, दीपिका पाराशर, अनुकृति जैन, अनुश्रुति जैन, इशिका गुप्ता, कोमल आचार्य, माही मूंदड़ा, रियल मेहता, साक्षी जैन, शीला बलाई, स्मृति मूंदड़ा, रिद्धिम धवन, शैफाली राठौड़, यशवी बाहेती की कलाकृतियों को लगाया।

खबरें और भी हैं...