पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सवालों के घेरे में नगर परिषद का सिस्टम:टेंडर से रोकने लूट का ड्रामा; ठेकेदार का 2.50 लाख से भरा बैग छीना, फुटेज में दिखा तो लौटाया

भीलवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ऑटो टिपर के चालक उपलब्ध कराने के लिए 48.50 लाख की निविदा प्रक्रिया के बीच विवाद

नगर परिषद में गुरुवार काे हुई ऑनलाइन निविदाओं में गड़बड़ी के चलते ठेकेदाराें के बीच 27 मिनट की नकली लूट का नाटकीय घटनाक्रम हुआ है। ठेकेदार का पैसाें से भरा बैग पहले नाटकीय ढंग से लूटना औऱ् बाद में पुलिस के पहुंचते ही बैग का 27 मिनट बाद ही मिल जाना सवालाें के घेरे में हैं। परिषद प्रबंधन इसे मामूली विवाद समझकर टालता रहा। इससे गड़बड़ सिस्टम की पाेल खुल गई है। गुरुवार काे ऑटो टिपर के लिए वाहन चालक उपलब्ध कराने के 48.50 लाख रुपए टेंडर में हुए हुए विवाद में ताे एक ठेकेदार दूसरे ठेकेदार का ढाई लाख रुपए का बैग लेकर भाग गया।

यह बैग लेकर इसलिए भागा क्याेंकि वे चाहता था कि संबंधित ठेकेदार निर्धारित समय तक यह राशि परिषद में जमा नहीं करा सके। परिषद में हुई इस घटना के हंगामा हाे गया। आखिर सभापति राकेश पाठक के पास मामला पहुंचा ताे तुरंत पुलिस बुलाई। इसके बाद सीसीटीवी फुटेज खंगाले। इसमें सामने आया कि अजमेर से आया एक ठेकेदार भी इस निविदा प्रक्रिया में भाग लेना चाहता था लेकिन उसे राेकने का प्रयास किया गया। हालांकि फुटेज में स्पष्ट दिखने पर सभापति के दखल से बैग वापस लाैटा दिया गया। परिषद में हुए घटनाक्रम में निविदा में गड़बड़ी की चर्चा रही।
सवाल; सीसीटीवी में वारदात कैद, पुलिस ने फुटेज देखे फिर भी केस दर्ज नहीं... समझौता

काैशल कुमार : अजमेर की समता ट्रेडर्स के प्रतिनिधि है। परिषद में काॅपी जमा कराने आए थे। यहां आते ही गेट पर ढाई लाख रुपए का बैग लेकर भाग गए। इन्हाेंने बताया कि मेरा बैग काैन ले गया मुझे पता नहीं। मेरा बैग सभापति पाठक की मदद से मिल गया।

महादेव लाेट : नगर परिषद में अभी ऑटाे टिपर चालक के लिए जिस फर्म की निविदा हाे रखी है। इस फर्म के सुपरवाइजर लाेट ने कहा कि परिषद में बैग लेकर भागने की घटना से मेरा काेई संबंध नहीं है। मुझे इसकी जानकारी नहीं है। मेरा काेई ड्राइवर भी इसमें शामिल नहीं है।

ठेकेदाराें की दादागिरी : पूरा सिस्टम माैजूद, फिर इतनी ढील क्याें... नगर परिषद में गुरुवार काे हुई घटना में परिषद के निविदा प्रक्रिया की पाेल खाेल दी है। सवाल यही है कि ऑफलाइन प्रक्रिया में ठेकेदाराें का पूल संभव था लेकिन अब ठेकेदाराें के बीच ऑनलाइन निविदा में भी पूल करने लिए ऐसा किया गया। इस प्रक्रिया में ठेकेदार की मनमर्जी हावी रही।
सुरक्षा में चूक : बैग लेकर भागा, पुलिस पहुंची ताे मिल गया...नगर परिषद में नाटकीय ढंग से हुई घटना में चूक सामने आई है। पहलेे ताे बुजुर्ग ठेकेदार का बैग लेकर भागे जिसमें रुपए थे। यह काम ठेकेदाराें ने ही किया। इसके परिषद में सुरक्षा सिस्टम पर सवाल खड़े हाे गए हैं। महत्वपूर्ण बात यह है कि फुटेज खंगालते ही बैग कैसे मिल गया।
सिस्टम की खामी : ऑफलाइन काॅपी भाैतिक सत्यापन के लिए जमा...ऑनलाइन निविदा के बाद ऑफलाइन काॅपी भाैतिक सत्यापन के लिए जमा हाेती है। साथ में अमाउंट भी जमा हाेता है। नगर परिषद में कई बार ठेकेदारों में पूल व गड़बड़ी के मामले सामने आ चुके हैं। पहले भी निर्माण कार्य में ठेकेदारों को धमकाकर निविदा नहीं डालने दी।

निविदा सभी के लिए है न कि किसी एक ठेकेदार के लिए। पीड़ित के लिए बाकायदा पुलिस बुलाकर सीसीटीवी फुटेज खंगाले। बाद में पीड़ित और आरोपी पक्ष के बीच समझौता कैसे हुआ इसकी जानकारी नहीं है। उसका रुपए का बैग वापस मिल गया है।
-राकेश पाठक, सभापति नगर परिषद

किसी ठेकेदार के साथ ही नहीं बल्कि किसी अाम अादमी के साथ भी परिषद के अंदर इस तरह की वारदात हाेती है ताे यह गंभीर है। इसकाे लेकर हमने परिषद की अाैर से मुकदमा दर्ज करा दिया है। दाेषियाें के खिलाफ कार्रवाई करेंगे।
-दुर्गाकुमारी, अायुक्त नगर परिषद

खबरें और भी हैं...