भीलवाड़ा में बुजुर्ग फिर लुटेरों के निशाने पर:पशु चराकर घर लौट रहा था बुजुर्ग, बदमाशों ने लुटे जेवरात; एक बदमाश पकड़ा

भीलवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वारदात के बाद पुलिस थाने पहुंचा बुजुर्ग। - Dainik Bhaskar
वारदात के बाद पुलिस थाने पहुंचा बुजुर्ग।

जिले में बुजुर्गों द्वारा अपनी परंपरा का निर्वहन करते हुए पहने जा रहे सोने के जेवरात उनके लिए जान की आफत बन चुके हैं। एक बार फिर से शुक्रवार देर शाम को गंगापुर थाना क्षेत्र के गुढ़ा गांव में लुटेरों ने एक बुजुर्ग को फिर से निशाना बनाया गया है। बदमाशों ने बुजुर्ग के गले में पहनी सोने की रामनामी व कानून की बालियां लूट ली थी बुजुर्ग की चिल्लाने की आवाज सुनने पर उसके बेटे व अन्य ग्रामीणों ने एक बदमाश को मौके पर ही पकड़ लिया। वही दूसरा वहां से फरार हो गया। मामले की जानकारी मिलने के बाद पुलिस भी मौके पर पहुंच गई और पकड़े गए बदमाश को हिरासत में लिया।

गंगापुर पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार शाम को थाना क्षेत्र के गुड़ा गांव में रहने वाले कालू राम पुत्र मियांराम गाडरी अपनी भैंसों को चरा कर सरगांव रोड से घर की तरफ लौट रहे थे। इस दौरान बाइक पर सवार दो नकाबपोश बदमाश उसके पास आए और उसके गले में पहनी रामनामी पर झपट्टा मारा। इसके बाद बदमाशों ने उसके कान में पहनी सोने की बालियां भी झपट ली। जिससे कालूराम को चोट भी आई। कालूराम के चिल्लाने पर उसके बेटे शंकर गाडरी ने बदमाशों का पीछा किया और एक बदमाश को पकड़ लिया। मामले को देखकर आसपास के ग्रामीण भी मौके पर पहुंच गए और दूसरे बदमाश का पीछा करने लगे। लेकिन, दूसरा बदमाश बाइक को मौके पर ही छोड़कर खेतों के रास्ते भाग गया। इस घटना को लेकर थाने में बदमाशों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया गया है। पुलिस द्वारा पकड़े गए बदमाश से उसके साथी के बारे में पूछताछ की जा रही है।

प्रतिदिन हो रही है लूट की घटना

जिले में बुजुर्गों के साथ लूट की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही। जिले के कई बदमाश व आसपास के जिलों के बदमाशों की नजर इन बुजुर्गों के पहने सोने के गहनों पर है। इन बदमाशों के लिए यह बुजुर्ग सबसे आसान निशाना होते हैं। आसानी से इन को लूट कर यह लोग अपने अपने क्षेत्र में लौट जाते हैं। अभी तक पुलिस के हाथ में जितने भी बदमाश आए हैं। वह ज्यादातर युवा है जो नशे की तलब को पूरा करने के लिए लूट की वारदातों को अंजाम दे रहे हैं।