पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्राेफेशनल्स का मदद मॉडल:इंजीनियर्स ने क्राउड फंडिंग से जुटाए ‌~ 7 लाख, नवोदयन व सीए-सीएस ने भी की काेराेनाकाल में अपनों की मदद

भीलवाड़ा19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आईसीएआई भीलवाड़ा की ओर अपने सदस्यों के लिए वैक्सीनेशन कराया गया। - Dainik Bhaskar
आईसीएआई भीलवाड़ा की ओर अपने सदस्यों के लिए वैक्सीनेशन कराया गया।
  • नवाेदय से पासआउट स्टूडेंट्स में डाॅक्टर से लेकर कलेक्टर तक शामिल, पुराने साथियाें तक पहुंचाई मदद

काेराेनाकाल में जहां लाेग दवा, बेड व ऑक्सीजन के संकट से जूझते रहे वहीं भीलवाड़ा में प्राेफेशनल के मदद माॅडल ने कई लाेगाें की जिंदगी बचाई। इसमें सीए, सीएस, इंजीनियर्स व नवाेदयन ने काेराेना में यह बीड़ा उठाया और दूर बैठे लाेगाें काे अपनेपन का अहसास कराते हुए उनकाे मदद पहुंचाई है। इसमे नवाेदय स्कूल में जाे कभी साथ पढ़े और अभी काेई डाॅक्टर है ताे काेई कलेक्टर। ऐसे में एक-दूसराें ने साेशल मीडिया के जरिए समस्याएं जानी और काेराेनाकाल में मदद की है।

यही नहीं, किसी काे आर्थिक मदद की जरुरत पड़ी ताे भी साेशल मीडिया ग्रुप में एक मैसेज चलाया और कुछ ही घंटाें में पैसे एकत्रित कर इलाज के लिए साैंप दिया। इन प्राेफेशनल की इस पहल से कई लाेगाें काे सहारा मिला है।

क्राउड फंडिंग टेक्सटाइल कॉलेज की एलुमिनी ने की 7 लाख रुपए की मदद...थ्राइविंग इंजीनियर्स एसोसिएशन के सदस्यों ने एक ग्रुप बनाकर अलग-अलग शहरों में मदद कर सकने वाले सदस्यों की जानकारी दी ताकि उस शहर में जरूरतमंद संपर्क कर सके। वर्ष 2004 बैच के एलुमिनी की मौत पर सदस्यों ने क्राउड फंडिंग के जरिए साढ़े तीन लाख रुपए जमा कर परिवार को दिए। इसी तरह एक और सदस्य के लिए 3.5 लाख रुपए की मदद की गई है।

टास्क फोर्स 100 सीए सदस्यों की मदद की...आईसीएआई अध्यक्ष सीए पीरेश जैन ने बताया कि कोरोना काल में सीए सदस्य मदद के लिए आगे आए। करीब 100 चार्टर्ड अकाउंटेंट और उनके परिजनों की मदद की गई। इनमें बेड, ऑक्सीजन, इंजेक्शन उपलब्ध कराए। एक सीए सदस्य की मौत पर डेढ़ लाख रुपए की मदद की जाएगी। दो अन्य सदस्य को डेढ़-डेढ़ लाख रुपए इलाज खर्च देंगे। सभी सीए ने मिलकर आपात फंड भी स्थापित कर रखा है, जिससे मदद कर रहे हैं।

मेडिकल सेल 150 नवोदयन काे पहुंचाई राहत...स्नेह नवोदय एलुमिनी अध्यक्ष सीए मानवेंद्र कुमावत ने बताया कि एक मेडिकल सेल बनाई जिसमें नवोदय से पास आउट होकर बने डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ को शामिल किया। इसमें डाॅक्टर से लेकर कलेक्टर भी शामिल हैं। इन्होंने 150 नवोदयन और उनके परिजनों की मदद की है। इसमें मेडिकल से लेकर अन्य आर्थिक सहायता तक शामिल है। जिन नवोदयन की कोरोना से मौत हुई उनकी याद में पौधरोपण अभियान शुरू किया।

अलग फंड काेराेना में जुटाए पैसे, अब करेंगे मदद...आईसीएसआई भीलवाड़ा अध्यक्ष सीएस सुमित कच्छारा ने बताया कि कोरोना काल में सीएस सदस्यों की मदद की गई है। जिन सीएस सदस्य के इलाज में खर्चा लगा है उनको रिएम्बर्स किया जाएगा। इस फंड में सहयोग करने वाले को ही आर्थिक सहायता की जाएगी लेकिन हमारे यहां सभी कंपनी सचिव की मदद करेंगे। उन्होंने कहा, परिवार की तरह की इनकी मदद की जाएगी। एक साेशल मीडिया ग्रुप भी बनाया गया है।

खबरें और भी हैं...