पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नकल गिरोह का पर्दाफाश:फर्जी अभ्यर्थी बिठाकर दिलवाने वाला था अपनी परीक्षा, पुलिस ने भीलवाड़ा से दबोचा

भीलवाड़ा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रदेश में चल रही सब इंस्पेक्टर भर्ती परीक्षा में नकल गिरोह के लगातार पर खुलासे हो रहे हैं। भीलवाड़ा में भी मंगलवार को सुभाष नगर पुलिस की ओर से एक गिरोह का पर्दाफाश किया है। इस गिरोह द्वारा फर्जी अभ्यर्थी को परीक्षा में बिठाकर परीक्षा दिलवाने की तैयारी की जा रही थी। पुलिस ने इस संबंध में एक युवक को हिरासत में लिया है। जिसकी बुधवार को भीलवाड़ा में सब इंस्पेक्टर की परीक्षा होने वाली थी।

सुभाष नगर थाना प्रभारी पुष्पा कासोटिया ने बताया कि जयपुर कमिश्नरेट से सूचना मिली थी कि भीलवाड़ा में उपनिरीक्षक परीक्षा में फर्जी अभ्यर्थी बिठाकर परीक्षा दिलाने की संभावना है। इस पर पुलिस ने मंगलवार को भीलवाड़ा से जयपुर जिले के बामणी कस्बे के दांतली निवासी वीरेंद्र पुत्र कैलाश चंद्र मीणा को गिरफ्तार किया है। वीरेंद्र को गिरफ्तार करने से पहले पुलिस ने वीरेंद्र की दोस्त खेमराज को अजमेर से गिरफ्तार किया है। खेमराज की मंगलवार को अजमेर में उप निरीक्षक की परीक्षा थी।

यह है पूरा मामला

सुभाष नगर पुलिस ने बताया कि पुलिस के हत्थे चढ़ा वीरेंद्र मीणा व उसका दोस्त जयपुर के नारदपुरा निवासी ललित मीणा ने दिल्ली में रहने वाले एक अन्य मित्र जीत से मिलकर परीक्षा में फर्जी अभ्यर्थी बिठाकर खुद की जगह परीक्षा दिलवाने की डील की थी। वीरेंद्र व उसका दोस्त खेमराज और ललित मीणा के स्थान पर जीत से अन्य फर्जी अभ्यर्थी से परीक्षा दिलाने के लिए प्रति व्यक्ति 3 लाख की डील हुई थी। इसके लिए साथी द्वारा जीत के खाते में 15 हजार रुपए ट्रांसफर भी किए गए थे।

खेमराज के हत्थे चढ़ते ही पूरा राज आ गया सामने

मुखबिरी तंत्र से इस पूरे मामले की भनक जयपुर कमिश्नरेट पुलिस को मिल गई थी। इसके चलते पुलिस ने सबसे पहले खेमराज को अजमेर से हिरासत में लिया था। खेमराज की मंगलवार को परीक्षा थी। वही विरेंद्र की परीक्षा बुधवार को भीलवाड़ा में होने वाली थी।

खबरें और भी हैं...