पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

लॉकडाउन इफेक्ट:500 साल में पहली बार पालसा में नहीं मनेगा पांच गांवों का सामूहिक रक्षाबंधन

भिलवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • काेराेना बदल रहा परंपरा, पहली राखी बंधती है चारभुजानाथ को, ढाेल से करवाई मुनादी

रक्षाबंधन त्याेहार को परंपरागत रीति से मनाने का पालसा गांव में अनूठा रिवाज है। जो करीब 500 साल से अनवरत है। इस बार कोरोना गाइडलाइन के चलते रक्षाबंधन त्योहार मनाने को लेकर कई परिवर्तन किए गए। इनके लिए एक दिन पहले ही ढाेल बजाते हुए संबंधित गांवाें में मुनादी करवा दी गई है।

रंगराजसिंह कानावत ने बताया कि राखी का त्याेहार कोविड-19 संक्रमण के चलते सरकारी गाइडलाइन की पालना करते हुए मनाया जाएगा। रियासतकालीन परंपरा के अनुसार रामपुरा, सूरज नगर, भैरूखेड़ा, पालसा व कागसा का खेड़ा गांवों के लोग साथ मिलकर रक्षाबंधन मनाते आ रहे हैं। यह परंपरा पिछले साल तक निभाते रहे।

रक्षाबंधन पर पांचों गांवों के लाेग पालसा गढ़ के दरवाजे (दरी खाने) पर एकत्र होकर गाजे-बाजे के साथ जुलूस निकालते हुए पहली राखी भगवान चारभुजानाथ को बांधते रहे हैं। इस बार कोविड-19 के चलते गढ़ से केवल इन पांचों गांवों के चयनित पंच पटेल को बुलावा भेजा गया।

पंडित भंवरलाल शर्मा ने बताया कि श्रावणी पूर्णिमा पर सोमवार को रंगराजसिंह के सान्निध्य में गांवों से पहुंचे प्रबुद्धजन गढ़ के दरवाजे से गाजे बाजे के साथ राखी व नारियल लेकर दोपहर 12:15 बजे अभिजीत मुहूर्त में भगवान चारभुजानाथ को राखी बांधकर पर्व मनाने की शुरुआत करेंगे। वहां से पंच पटेल वापस गढ़ पर पहुंचेंगे।

जहां ग्रामीण व राज परिवार के लोग एक दूसरे को रक्षा सूत्र बांधकर शुभकामनाएं देंगे। वहीं महिलाएं जनाना ड्योढ़ी पहुंच कर क्षत्राणियों को रक्षा सूत्र बांधकर बधाई व शुभकामनाएं देंगी। साथ ही देवी-देवताओं व फसल को भी राखी बांध जाएगी। देर शाम तक लोग परिवार जनों के साथ रक्षाबंधन का त्योहार मनाएंगे।

क्षेत्र के छोटे-मोटे विवाद व समस्याएं सुलझाने को थाने-काेर्ट से पहल समझाइश

62 वर्षीय रंगराजसिंह कानावत 2 वर्ष पहले राजस्थान रोडवेज के यातायात निरीक्षक पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। उन्हाेंने बताया कि क्षेत्र के छोटे-मोटे विवाद व समस्याएं भी कोर्ट-कचहरी जाने से पहले गढ़ पर बैठक कर समझाइश से सुलझाने का प्रयास हाेता है। परंपरा अनुसार पांचों गांवों के लोग गढ़ में पहुंच कर एक दूसरे को राखी बांधेंगे।

राज परिवार की ओर से ग्रामीणों के सम्मान में प्रतिवर्ष भोज हाेता रहा। इस वर्ष कोविड-19 संक्रमण के चलते केवल सीमित जलपान की व्यवस्था रहेगी। होली, दीपावली व रक्षाबंधन तीनों त्योहार पांचों गांवों के लोग एक साथ गढ़ पर पहुंचकर मनाते रहे हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर से संबंधित कार्यों को संपन्न करने में व्यस्तता बनी रहेगी। किसी विशेष व्यक्ति का सानिध्य प्राप्त हुआ। जिससे आपकी विचारधारा में महत्वपूर्ण परिवर्तन होगा। भाइयों के साथ चला आ रहा संपत्ति य...

और पढ़ें