पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

स्कूल अनलाॅक:आमेसर में शिक्षक जुटे सफाई में, ऑड-ईवन फाॅर्मूला, सप्ताह में 3 दिन छात्राएं ताे तीन दिन छात्र आएंगे

भीलवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मार्च से बंद स्कूलाें में 9वीं से 12वीं की पढ़ाई शुरू...स्क्रीनिंग व तापमान जांच के बाद प्रवेश

काेविड संक्रमण के कारण बंद सकूल दस माह बाद सोमवार को खुल गए। अभी कक्षा 9 से 12 की कक्षाएं ही चलेंगी। भास्कर टीम ने जिलेभर में दौरा करके यह जानने का प्रयास किया कि कहां क्या सावधानी और नए प्रयोग किए गए हैं। शिक्षकों ने एक-एक के मास्क जांचे। सेनेटाइज किया। उनका तापमान नाेट करने के लिए भी शिक्षकाें की ड्यूटी तय की थी।

राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय धामनिया के प्रधानाचार्य मदनलाल महावर व व्याख्याता जगदीशचंद्र मंत्री ने बताया कि सोमवार, बुधवार व शुक्रवार को छात्राएं आंएंगी। वहीं मंगलवार, गुरुवार व शनिवार को छात्र कक्षाओं में आएंगे। सभी कमराें के बाहर भी सेनेटाइज बॉक्स रखे हैं।

आमेसर के सरकारी स्कूल के शारीरिक शिक्षक राजेश ओझा ने बताया कि सरपंच बाबूलाल मेघवंशी, समाजसेवी अशोककुमार पीपाड़ा, सचिव सदीक मोहम्मद आदि के सहयोग से परिसर को सोडियम हाइपो क्लोराइड से सेनेटाइज किया। पानी की टंकी, सुविधाघराें की सफाई की। इधर, भीलवाड़ा शहर के संगम स्कूल की प्रिंसिपल मधु नागपाल ने बताया कि कक्षा 9 से 12 के बच्चों को रोटेशन के अनुसार बुलाया। इससे पहले स्कूल बसों को सेनिटाइज किया। ईडन इंटरनेशनल स्कूल के प्रिंसिपल सत्यनारायण उपाध्याय ने बताया कि छात्र-छात्राओं को टेंपरेचर नापा। हाथों को सेनिटाइज किया। 6 फीट की दूरी पर सीटिंग व्यवस्था की।

प्रबंधन राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय भीमगंज... स्कूल में सोशल डिस्टेंस की पालना के लिए गोल बनाए गए थे। संस्था प्रधान दिनेश पीपाड़ा शारीरिक शिक्षक रोशन देवपुरा ने बताया कि प्रत्येक टेबल पर रोल नंबर अंकित थे। ताकि छात्र अपने रोल नंबर के अनुसार बैठ जाए। स्कूल दो पारियों में संचालित किया गया। छात्राओं की संख्या करीब 3 हजार होने से स्कूल में रोटेशन से अध्ययन व्यवस्था की गई। पहली पारी में सोमवार सुबह 12 वीं की छात्राओं को अध्ययन के लिए बुलाया गया।

यहां प्रवेश द्वार पर सेनेटाइज की व्यवस्था की। गार्ड ने सभी को सेनेटाइज करके ही विद्यालय में प्रवेश की अनुमति दी। सभी छात्राओं ने मास्क लगा रखा था। प्रिंसिपल आशा लढ़ा ने सोशल डिस्टेंस रखने, लंच क्लास रूम में ही करने एवं पेन, पेंसिल एक दूसरे से शेयर नहीं करने के निर्देश दिए।

भीलवाड़ा एसडीएम ओम प्रभा एवं जिला शिक्षा अधिकारी मुख्यालय प्रारंभिक तहसीन अली ने स्कूल का निरीक्षण किया। दोपहर 12 :30 राजकीय एडीएम- प्रशासन राकेश कुमार ने निरीक्षण किया। संपूर्ण स्कूल परिसर एवं सभी कक्षा-कक्षों को सेनेटाइज किया था।

पहल छात्राें के लिए 1000 मास्क व 3 सेनेटाइजर मशीनें भेंट...काेदूकाेटा के राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल में छात्रों को कोरोना से बचाव के उपायाें के प्रति जागरुक करते हुए जरूरी सामग्री भेंट की। स्कूल खुलने के साथ ही छात्र व शिक्षक उत्साहित हाे गए। प्राधानाचार्य फारुक माेहम्मद की अपील पर 1000 मास्क, 3 सेनेटाइजर मशीन स्टैंड, 15 लीटर सेनेटाइजर और तापमान मापने की थर्मल मशीन भामाशाह कुलदीपसिंह राणावत, नवीन कोठारी, लोकेश प्रजापत, पवन पारीक ने भेंट की।

निरीक्षण कलेेक्टर ने शिक्षक की डायरी से नंबर लेकर अभिभावक को फोन लगाकर पूछा... कलेक्टर शिवप्रसाद एम नकाते दोपहर एक बजे राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सुवाणा में निरीक्षण के लिए पहुंचे। उनकाे कई कमियां मिली। स्कूल परिसर को सेनेटाइज नहीं किया था। टीचर की दैनिक डायरी में राेज अभिभावकों की गई काॅलिंग के माेबाइल नंबर दर्ज थे। उसने कलेक्टर काे वह राेज अभिभावकों के घर जाती हैं।

वहां बालकों को पढ़ाई कराती है। कलेक्टर ने दैनिक डायरी में लिखे मोबाइल नंबर में से एक नंबर पर समसा एपीसी योगेश पारीक से कॉल लगवाया। अभिभावक गोविंद गुर्जर ने उनकाे बताया कि अध्यापिका उनके घर नहीं आईं और न ही कभी काॅल किया। मैं खुद बच्चे काे स्कूल ले जाता हूं और टीचर से उसके लिए वर्क लेता हूं। कलेक्टर ने इसे संस्था प्रधान की लापरवाही मानी। कलेक्टर ने 12 वीं की छात्राओं से सवाल-जवाब भी किए। इस पर दो ने जवाब सही नहीं दिए। मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी ब्रह्माराम चौधरी ने बरड़ोद, सांखड़ा व काेदूकाेटा स्कूल का निरीक्षण किया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

    और पढ़ें