• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bhilwara
  • In Meja Dam, 2 Feet Of Water Will Be Able To Take 100 Lakh Liters Daily For 2 Months, The City Will Only Support Chambal Project

संकट की आहट:मेजा बांध में 2 फीट पानी 2 महीने ही ले सकेंगे रोज 100 लाख लीटर, शहर को चंबल प्रोजेक्ट का ही सहारा

भीलवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मेजा बांध का फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
मेजा बांध का फाइल फोटो।
  • राेज इससे 650, ककराेलिया घाटी से लेते हैं 75 लाख लीटर पानी

इस साल पर्याप्त बारिश नहीं हाेने से अधिकांश बांध व तालाब खाली है। इससे शहर के साथ ही ग्रामीण क्षेत्राें में भी पेयजल संकट की स्थिति उत्पन्न हाे सकती है। शहर में पेयजल आपूर्ति का मुख्य स्त्राेत रहे मेजा बांध में भी इस बार पर्याप्त पानी की आवक नहीं हाेने से शहर काे राेज दिए जा रहे 100 लाख लीटर पानी में कमी हाेने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है। वर्तमान में मेजा बांध में करीब 2 फिट पानी है। जिससे केवल 2 महीने यानी जनवरी तक 100 लाख लीटर पानी लिया जा सकेगा।

शहर में वर्तमान में करीब 825 लाख लीटर पानी राेज सप्लाई किया जा रहा है। जिसमें से चंबल से 650 लाख लीटर, ककराेलियाघाटी से 75 व मेजा बांध से करीब 100 लाख लीटर पानी लिया जा रहा है। चंबल से पहले शहर में जलापूर्ति का मुख्य पेयजल स्त्राेत मेजा बांध ही था। उसके बाद ककराेलिया घाटी पेयजल परियाेजना बनाई गई, फिर भी पेयजल संकट से निजात नहीं मिला ताे चंबल परियाेजना तैयार की गई। इस समय शहर में जलापूर्ति के लिए अधिकांश पानी करीब 650 लाख लीटर चंबल से लिया जा रहा है, जबकि मेजा बांध व ककराेलियाघाटी से क्रमश 100 व 75 लाख लीटर पानी मिल रहा है।

मातृकुंडियां बांध में भी पर्याप्त पानी नहीं पहुंचने से नहर से मेजा बांध में पानी नहीं पहुंचा। वर्तमान में मेजा बांध में करीब 2 फीट पानी है। अगर राेज 100 लाख लीटर पानी लिया जाएगा ताे यह करीब दाे महीने तक ही चल पाएगा। उसके बाद शहरवासियाें काे पीने का पानी चंबल से ही उपलब्ध कराना पड़ेगा।

9 फीट पेयजल के लिए रिजर्व रखते हैं, इससे कम पर नहीं चलती नहरें

मेजा बांध का 9 फीट पानी शहरवासियाें के पीने के लिए रिजर्व रखना हाेता है। 9 फीट से अधिक पानी हाेने पर ही खेती के लिए नहर में दिया जाता है। इस बार पीने का भी पूरा पानी नहीं आया ताे खेती के लिए देना संभव नहीं है। हर साल मेजा बांध में मातृकुंडियां से पानी लाया जाता रहा है, लेकिन इस बार मानसून सीजन में कम बारिश हाेने से चित्ताैड़गढ जिले के मातृकुंडियां बांध में भी पर्याप्त पानी की आवक नहीं हाे सकी। एेसे में मेजा बांध काे मातृकुंडिया बांध से पानी नहीं मिला।

इस साल पर्याप्त बारिश नहीं हाेने से बांध में पानी की आवक नहीं हुई। इस समय मेजा बांध में 2 फीट पानी है, जाे राेज 100 लाख लीटर के हिसाब से अगले दाे माह तक मिलता रहेगा। इस कारण दाे माह बाद मेजा बांध से पीने का पानी नहीं मिल सकेगा। जितेंद्रकुमार, एईएन प्राॅडक्शन जलदाय विभाग

खबरें और भी हैं...