पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bhilwara
  • Influenza Was Spread In Shahpura Princely State In 1918 19, Raj Started Dying, 23 People Stopped Again After 102 Years From The Fifth Gate

वीकेंड कर्फ्यू:शाहपुरा रियासत में 1918-19 में इंफ्लूएंजा फैला था, राेज मरने लगे थे 23 लाेगपांचाें द्वार से 102 साल बाद फिर रुका आवागमन

भीलवाड़ा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

काेराेना संक्रमण से बचाने के लिए जारी वीकेंड कर्फ्यू में शाहपुरा के ऐतिहासिक द्वार रविवार काे भी बंद रहे। करीब 102 साल पहले इस तरह की महामारी का प्रकाेप राेकने के भी ये दरवाजे साक्षी हैं। उन दिनों शाहपुरा रियासत में हालात ये हाे गए थे कि 23 लाेग राेज मरने लगे।

कुछ ही दिनाें में हजाराें लाेग मारे गए। तब तत्कालीन नरेश ने शाहपुरा के पांचाें मुख्य प्रवेश द्वार बंद करवा दिए। बाहरी लाेगाें का राजधानी में आना तथा राजधानी वालाें का बाहर जाना राेक दिया। बीमार लोगों को उपचार सुविधाएं मुहैया कराई गई। दवाइयां व रसद दिल्ली व उदयपुर से मंगवाई जाती थी।

एक तिहाई आबादी खत्म हाे गई थी
शाहपुरा स्टेट के सनहदी दफ्तर में इसका रिकॉर्ड था। रिकाॅर्ड संग्रहित करके शाह मनोहरसिंह डांगी ने पुस्तक ‘शाहपुरा काल सौरभ’ लिखी गई है। पुस्तक के मुताबिक प्रथम विश्वयुद्ध के बाद 1918-19 में इंफ्लुएंजा फैला। शाहपुरा नगर तथा रियासत के देहातों में इस बीमारी का बहुत प्रकाेप रहा। उस वक्त स्टेट की आबादी 63 हजार 646 थी। विशुचिका रोग (उल्टी-दस्त होकर मृत्य) और फिर अकाल से काफी मौतें हुईं। 1921 में जनगणना करवाई थी। तब आबादी मात्र 42 हजार 676 रह गई थी।
- जैसा भास्कर के अनुज कांटिया काे बताया

खबरें और भी हैं...