चातुर्मास:नैतिक मूल्यों के प्रति निष्ठा रखते हुए राज्य और समाज की सेवा करते रहें

भीलवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने आशीर्वाद लिया, आचार्यश्री ने कहा-

हजारों किलोमीटर पदयात्रा कर देश-विदेश में अहिंसा का संदेश देने वाले अहिंसा यात्रा प्रणेता आचार्यश्री महाश्रमण के सान्निध्य में बुधवार काे राजस्थान विधानसभा के अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने दर्शन कर आशीर्वाद प्राप्त किया।

आचार्यश्री के सान्निध्य में अणुव्रत उद्बोधन सप्ताह के तहत ‘पर्यावरण शुद्धि दिवस’ भी मनाया गया। आचार्यश्री ने प्रवचन में कहा कि अणुव्रत ही संयम है, संयम है तो अणुव्रत है। पर्यावरण दिवस पर पानी का उपयोग कैसे किया जाए इस ओर ध्यान देना चाहिए।

कहीं अनावश्यक पानी का इस्तेमाल ताे नहीं हो रहा है। किसी भी प्रकार से जल का उपयोग हो तो ध्यान में रखना चाहिए कि अनावश्यक अपव्यय न हो। इसी तरह बिजली का उपयोग भी आवश्यक हो उतनी ही काम में ली जानी चाहिए। बिना वजह पेड़-पौधे काटने से भी बचना चाहिए। जैन सिद्धान्त अनुसार वनस्पति भी जीव होती है। पर्यावरण के प्रति जागरूक बन कर जीव हिंसा से भी कई रूपों से बचा जा सकता है।

तत्पश्चात आचार्यश्री ने अहिंसा यात्रा के तीनों उद्देश्यों सद्भावना, नैतिकता एवं नशामुक्ति को व्याख्यायित करते हुए कहा कि अणुव्रत एक ऐसा तत्व है, जो समाज, व्यापार व राजनीति हर क्षेत्र के लिए जरूरी है। अणुव्रत मानव में मानवता लाने का कार्य करता है। पैसा, पद, प्रतिष्ठा से भी बड़ी संपदा सदाचार की होती है। अणुव्रत सद् विचार द्वारा जीवन में सदाचार लाने का कार्य करता है।

संत जनता को सद्ज्ञान देते हैं, वह अगर जीवन में आ जाए तो कल्याण हो सकता है। बुधवार काे ही राजस्थान विधानसभा के अध्यक्ष का आगमन हुआ। राजस्थान से हमारे तेरापंथ का विशेष रूप से जुड़ाव है। यहां की जनता में खूब आध्यात्मिकता का विकास होता रहे। राजनीति सेवा का एक अच्छा माध्यम है। विधानसभा अध्यक्ष नैतिक मूल्यों के प्रति निष्ठा रखते हुए समाज व राज्य की पवित्र सेवा करते रहें।

विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने कहा कि यह उनका सौभाग्य है कि अपने पूर्व संसदीय क्षेत्र में आपके दर्शन करने का अवसर प्राप्त हो रहा है। तेरापंथ की उद्गम स्थली केलवा भी वर्तमान में मेरे संसदीय क्षेत्र में आती है।

आचार्यश्री जो अहिंसा यात्रा के साथ तीन सूत्रों का प्रचार कर रहे हैं उनकी वर्तमान समय में बहुत आवश्यकता है। सद्भावना, नैतिकता एवं नशामुक्ति के सूत्र संसदीय प्रणाली में आ जाए तो निश्चित तौर पर समाज व देश आगे बढ़ेगा। आचार्यश्री के वचनों को जीवन में अपनाकर स्वयं को देश की सेवा में और समर्पित करूंगा।

कार्यक्रम में मांडल विधायक रामलाल जाट, कांग्रेस जिलाध्यक्ष रामपाल शर्मा, कलेक्टर शिवप्रसाद एम नकाते, एस.पी विकास शर्मा, डीएसपी धर्मेंद्र आंचलिया, नगर परिषद सभापति राकेश पाठक सहित, कॉंग्रेस जिलाध्यक्ष रामपाल शर्मा सहित कई जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति रही। इस अवसर पर आचार्यश्री महाश्रमण चातुर्मास प्रवास व्यवस्था समिति के अध्यक्ष प्रकाश सुतरिया ने स्वागत वक्तव्य दिया।

अभिव्यक्ति के क्रम में अणुव्रत विश्व भारती अध्यक्ष संचय जैन, अणुव्रत न्यास से केसी जैन, उत्तम सामसुखा आदि ने विचार व्यक्त किए। इससे पहले, जाेशी के भीलवाड़ा आने पर कलेक्टर व एसपी ने पुष्पगुच्छ भेंट किए। अतिरिक्त कलेक्टर (शहर) एनके राजौरा, भीलवाड़ा उपखंड अधिकारी ओमप्रभा भी माैजूद थीं।

खबरें और भी हैं...