पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बजरी माफिया का खौफ:खान विभाग ने आरएसी के 25 जवान बुलाए, कार्रवाई के समय साथ रहेंगे

भीलवाड़ा13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में लगातार बजरी माफिया की ओर से बढ़ रहे हमलाें काे देखते हुए खान विभाग ने आरएसी बटालियन बुलाई है। बटालियन के 25 जवान तैनात किए हैं जाे कार्रवाई के दाैरान साथ रहेंगे। खान विभाग की टीमाें पर लगातार हमले किए जा रहे हैं। कार्रवाई के दाैरान जाने वाली टीम पर पिछले छह महीने में 13 घटनाएं हाे चुकी है। ऐसे में माइनिंग विभाग ने यह बटालियन बुलाई है। अब जहां बजरी का अवैध खनन अधिक हाेता है वहां पर गश्त भी करेगी। एसएमई अरविंद नंदवाना ने बताया कि भीलवाड़ा जिले में पहली भी आरएसी की बटालियन काम कर चुकी है। अभी जरूरत पड़ने पर फिर से मांगी गई है ताे हमें 25 जवान मिले हैं। इसमें महिला जवान भी शामिल है। बटालियन माइनिंग विभाग की टीम की ओर से कार्रवाई के दाैरान साथ में रहेगी। साथ ही गश्त भी करेंगी, जिससे बजरी की अवैध परिवहन व खनन पर राेक लगाई जा सकेगी। नंदवाना ने बताया कि टीम जब मौके पर कार्रवाई करने जाती है तो खाकी वर्दी देखकर आरोपी एकाएक हमला नहीं करते हैं। जाब्ता नहीं होने पर अधिकारी-कर्मचारी कार्रवाई करने चले तो जाते हैं, लेकिन उन पर हमला होने की आशंका हमेशा बनी रहती है। जाब्ता होगा तो टीम की कार्रवाई करने की क्षमता और विश्वास भी बढ़ेगा। साथ ही आरएसी के जवान साथ में हाेने के कारण से पुलिस का इंतजार भी नहीं करना पड़ता है।

10 मुकदमे दर्ज, जिन पर कानून कार्रवाई जारी है
माइनिंग टीम पर जानलेवा हमले करने व राजकीय कार्य में बाध डालने के मामले भी माइनिंग विभाग के अधिकारियाें की ओर से दर्ज करवाएं जाते है। एमई एलएन कुमावत ने बताया कि माइनिंग विभाग की ओर से जिले के विभिन्न थानाें में 10 मामले राजकीय कार्य में बाधा डालने के मुकदमे दर्ज करवाए हुए है जिन पर कानूनी कार्यवाही चल रही है।

पुलिस के कब्जे से ट्राॅली छुड़ाकर ले गया माफिया
कुछ ही दिन पहले ही बड़लियास थाना क्षेत्र में बजरी माफिया ने माइनिंग विभाग के अधिकारियों के साथ मारपीट व अभद्रता की। माफिया के लोग माइनिंग विभाग के अधिकारियों के साथ अभद्रता करते हुए ट्रैक्टर ट्रॉली छुड़ा कर ले गए। हाल ही ऐसा मामला बागौर थाना क्षेत्र में भी सामने आया।

वहीं प्रतापनगर थाने में भी मुकदमा दर्ज करवाया गया था इसमें बताया कि कार्रवाई के लिए पहुंची माइनिंग की टीम पर बजरी माफिया ने पत्थर फेंके। जिले में बजरी के अवैध परिवहन के दाैरान हादसे भी चुके हैं जिसमें कई निर्दाेष लाेगाें की जान भी जा चुकी है। वहीं, जहाजपुर एसडीएम के चालक की भी बजरी माफिया ने ट्रैक्टर से कुचल कर हत्या कर दी थी। कई बार ताे माफिया आपस में भिड़े जाते हैं जिसके मामले भी थाने में हैं।

खबरें और भी हैं...