पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लोगों को राहत:अब 4 साल बाद यूआईटी बनाएगी 11300 पट्‌टे

भीलवाड़ा15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • प्रशासन शहरों के संग अभियान 2 अक्टूबर से, सरकार ने ऑनलाइन पोर्टल शुरू किया

प्रदेश में 2 अक्टूबर से प्रारंभ हो रहे प्रशासन शहरों के संग अभियान को लेकर शहरवासियों के लिए शुभ समाचार। यूआईटी इस अभियान में करीब 11,300 पट्टे जारी बनाएगी। अभियान के पहले ही दिन यूआईटी ने 1,000 पट्टे जारी करने का लक्ष्य रखा है। अभियान के लिए ऑनलाइन पोर्टल ‘शहर-2021’ प्रारंभ हो चुका है। अभियान में पट्टे बनाने के इच्छुक आवेदक काे ऑनलाइन ही आवेदन करना हाेगा।

यूआईटी आने की आवश्यकता नहीं होगी। एसएमएस के माध्यम से आवेदन की हर स्थिति की सूचना मिलेगी। निर्धारित शुल्क भी ऑनलाइन ही जमा कराना होगा। पट्टा भी ऑनलाइन जारी होगा। यूआईटी सचिव अजय कुमार आर्य ने बताया कि अभियान काे लेकर 15 से 25 सितंबर तक तैयारी शिविरों का आयोजन हाेगा। इसके बाद 2 अक्टूबर से 31 मार्च 2022 तक मुख्य अभियान आयोजित हाेगा। अभियान में 17 जून 1999 से पहले एवं बाद की कृषि भूमियों पर स्वीकृत योजनाओं में पट्टे जारी हाेंगे। यूआईटी में शिविर की तैयारियां प्रारंभ हो गई है। इससे पहले वर्ष-2017 में आयोजित शिविर में पट्टे जारी किए गए थे।

ये हैं नियम; 17 जून 1999 के पहले के बेचान मामले
कृषि भूमि पर बसी हुई ले-आउट स्वीकृत कॉलोनियों के ऐसे भूखंड जिन्हें 31 दिसंबर 2018 तक कितनी ही बार रजिस्टर्ड या बिना रजिस्टर्ड बेचान या इकरारनामे के आधार पर हस्तांतरण हाे चुका। ऐसे मामलों में केवल प्रीमियम शुल्क लेकर पट्टे जारी हाे सकेंगे। अपंजीकृत इकरारनामों के मामले में प्रचलित दर पर प्रीमियम तथा इसके अतिरिक्त प्रीमियम की 15 प्रतिशत राशि शुल्क वसूल कर अंतिम खरीददार के नाम पट्टा जारी हाे सकेगा।

कृषि भूमि पर बसी हुई ले-आउट स्वीकृत कॉलोनियों के ऐसे भूखंड जिन्हें 31 दिसंबर 2018 तक कितनी ही बार रजिस्टर्ड या बिना रजिस्टर्ड बेचान या इकरारनामे के आधार पर हस्तांतरण हाे चुका। ऐसे मामलों में केवल प्रीमियम शुल्क लेकर पट्टे जारी हाे सकेंगे। अपंजीकृत इकरारनामों के मामले में प्रचलित दर पर प्रीमियम तथा इसके अतिरिक्त प्रीमियम की 15 प्रतिशत राशि शुल्क वसूल कर अंतिम खरीददार के नाम पट्टा जारी हाे सकेगा।

गैर योजना क्षेत्र में लंबित पत्रावलियां
गैर योजना क्षेत्र के राजस्व गांव भीलवाड़ा में 447, मलाण में 435, पांसल में 365, सांगानेर में 24, बिलिया खुर्द में 53, हरणी खुर्द में 25, ओडो का खेड़ा में 79, केवाड़ा में 40, जोधडास में 6, सुवाणा-नई ईरास में 15, पुर में 20, पालड़ी में 01 तथा आटूण राजस्व गांव की 8 पत्रावलियां यूआईटी में लंबित है। जिनके शिविर में पट्टे जारी होंगे।

योजना क्षेत्र में 1,127 लंबित, लेकिन अभी आदेश नहीं
यूआईटी की योजना क्षेत्र की विभिन्न कॉलोनियों में 1,127 पत्रावलियां लंबित है। लेकिन राज्य सरकार के योजना क्षेत्र के पट्टे जारी करने पर रोक होने से शिविर में पट्टे जारी नहीं हो सकेंगे। इनमें आजाद नगर- 289, आरसी व्यास-277, तिलक नगर- 157, मोहन लाल सुखाडिय़ा नगर-190, पटेलनगर-92, बापूनगर-38, रामप्रसाद लढा नगर-8 एवं विजय सिंह पथिक नगर योजना की 46 पत्रावलियों के फिलहाल शिविर में पट्टे नहीं हो पाएंगे।

खबरें और भी हैं...