बेकसूर होकर भी सात दिन जेल में रहा...:अब जान से मारने की धमकी मिल रही, झूठी सांप्रदायिक पोस्ट कर फंसाया

भीलवाड़ा3 महीने पहले

उदयपुर पुलिस अगर कन्हैयालाल की बात समय पर सुन लेती तो उसकी जान बच जाती। अब भीलवाड़ा में भी एक 23 साल के लड़के ने भी अपनी जान को खतरा बताया है। उसे धमकी भरे फोन भी आ रहे है। पुलिस ने दो गन मैन युवक की सुरक्षा में लगाए है। हालांकि पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। लेकिन युवक ने न्याय की गुहार लगाई है।

दरअसल, भीलवाड़ा में दो दोस्तों ने युवक विशाल खटीक के सोशल आईडी से झूठी सांप्रदायिक पोस्ट कर उसे फंसाया। जिसके कारण उसे सात दिन जेल में भी रहना पड़ा। मगर पूरा मामला झूठा निकला और उसे रिहा किया गया। युवक को अब भी धमकी भरे फोन आ रहे है। जेल से बाहर आने के बाद युवक ने कहा कि...

" मुझ पर जेल का ठप्पा लगा है। वह कभी मिट नहीं पाएगा। मैं सात दिन ऐसे अपराध में जेल काटकर आया हूं, जो मैंने किया ही नहीं। जेल में सात दिन किस तरह से निकले, यह सिर्फ मैं जानता हूं। जेल से रिहा होकर भी मेरी समस्या खत्म नहीं हुई है। अब भी धमकी भरे फोन मुझे आ रहे है। मैं फोन पर समझा रहा हूं कि यह मैंने नहीं किया। अब मिलने वाले हर दूसरे परिचित को भी इस बात की सफाई देनी पड़ रही है कि, मैंने कोई अपराध नहीं किया है"।

फोन पर दी जान से मारने की धमकी

विशाल ने बताया कि उसकी आईडी को एडिट कर धार्मिक टिप्पणियां वायरल की गई थी। जिसके चलते कई लोगों के उसके पास धमकी भरे फोन भी आ रहे है। उदयपुर में कन्हैयालाल हत्याकांड के बाद विशाल भी काफी डरा हुआ है। विशाल ने बताया कि 20 जून की रात को जहाजपुर पुलिस उसे थाने लेकर आई थी। उसे थाना प्रभारी को भी कहा था कि उसे फंसाया जा रहा है। लेकिन, उस समय लोगों के दबाव में पुलिस ने विशाल की बात नहीं सुनी और उसे जेल भेज दिया था।

पुलिस ने मामले में दो युवकों को गिरफ्तार किया है।
पुलिस ने मामले में दो युवकों को गिरफ्तार किया है।

दो युवक गिरफ्तार

शाहपुरा एएसपी चंचल मिश्रा ने बताया कि 7 जुलाई विशाल ने मामला दर्ज करवाया। मामले में जहाजपुर के गोल हथाई मोहल्ला निवासी तौफ़ीक़ उर्फ गुड्डू पुत्र अब्दुल मजीद पठान और देशवाली मोहल्ला निवासी दानिश पुत्र जहांगीर पठान को शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया हैं। आरोपी तौफीक की विशाल से पुरानी दुश्मनी थी और उसे सबक सिखाना चाहते थे। पुलिस ने 15 अन्य युवकों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है।

धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाने वाली पोस्ट की

दोनों युवकों ने विशाल खटीक के सोशल मीडिया अकाउंट का स्क्रीनशॉट लेकर उसे एडिट किया था। इसके बाद धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाने वाली टिप्पणी कर पोस्ट अपलोड कर दी थी। जिससे कस्बे में तनाव हो गया था। 20 जून को इस मामले में पुलिस ने विशाल को पकड़कर जेल भेजा था। विशाल ने जेल से बाहर आकर शिकायत की। पुलिस जांच में वह निर्दोश पाया गया।

विशाल के लिए दो गनमैन लगाए गए है।
विशाल के लिए दो गनमैन लगाए गए है।

विशाल काे मिले गनमैन

विशाल द्वारा जहाजपुर थाने में जान से मारने की धमकियों के मिलने के बाद अब पुलिस ने सुरक्षा मुहैया करवाई है। एसपी की ओर से विशाल को दो गनमैन सुरक्षा के लिए उपलब्ध करवाएं गए है। यह गनमैन आठ – आठ घंटे के हिसाब से विशाल खटीक को सुरक्षा देंगे।