पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लौटी खुशी:नवरात्र के पहले दिन मां की गोद में फिर आरती; रात में ही 6 घंटे लगातार बाइक चलाकर ले गए थे...तीन गिरफ्तार

भीलवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जयपुर के नि:संतान दंपती ने कराया था मासूम का बंक्याराणी मंदिर से अपहरण
  • पुलिस की 7 टीम ने 500 से अधिक फुटेज व 15000 मोबाइल नंबरों का विश्लेषण किया, जयपुर से बालिका को सुरक्षित खोज निकाला

बंक्यारानी माता मंदिर से तीन अक्टूबर की रात अपहरण की गई तीन वर्षीय बालिका को शुक्रवार रात पुलिस ने जयपुर से सुरक्षित तलाश लिया। बालिका का जयपुर के निसंतान दंपती ने अपने साथी की मदद से अपहरण कराया और उसी रात 6 घंटे में जयपुर लेते गए। पुलिस ने बालिका की तलाश के लिए सात टीम बनाकर करीब 150 डेरों पर दबिश दी। 500 से अधिक सीसीटीवी फुटेज खंगाले और बीटीएस के आधार पर 15000 मोबाइल नंबरों का विश्लेषण कर 500 संदिग्ध नंबर चिन्हित किए थे। बालिका को सकुशल तलाश करने वाली पुलिस टीमों के काम को उत्कृष्ट मानते हुए पुरस्कृत किया जाएगा।

एसपी प्रीति चंद्रा ने बताया कि बागमाली निवासी अर्जुननाथ पुत्र सुवा नाथ योगी ने 4 अक्टूबर को शंभूगढ़ थाने में रिपोर्ट देकर बताया कि वह पत्नी लीला व 3 साल की बेटी आरती के साथ आमेसर के पास बंक्यारानी माताजी के दर्शन करने आए थे। रात करीब 8:46 बजे मंदिर परिसर में योगी दंपती से बेटी बिछड़कर खो गई। इस पर एएएसपी शाहपुरा विमल सिंह के नेतृत्व में मंदिर परिसर में ही अस्थाई कैंप स्थापित कर विशेष टीम बनाई। विशेष टीम में डीएसपी गुलाबपुरा अजय सिंह व एससी-एसटी सेल रामचंद्र चौधरी के साथ ही विभिन्न थाना अधिकारियों व साइबर सेल टीम को भी लगाया। मानव तस्करी की आशंका के चलते 150 डेरों की तलाशी ली।

मंदिर परिसर में अपहरणकर्ताओं के संभावित आने जाने वाले रास्तों व विभिन्न टोल प्लाजा, होटल के साथ ही करीब 500 सीसीटीवी फुटेज देखे। करीब 15 दिन तक डाटा एकत्र कर मंदिर परिसर में बनी तकनीकी सेल टीम ने डाटा को देखा जाकर अपहरणकर्ताओं के हुलिए एवं घटना में उपयोग लिए वाहन और संदिग्धों के संभावित रूट का निर्धारण किया जाकर फील्ड इंटेलिजेंस के आधार पर विभिन्न स्थानों पर टीम के सदस्यों को कैंप कराया। साइबर सेल ने बीटीएस द्वारा जुटाए करीब 15,000 मोबाइल नंबरों का विश्लेषण कर 500 संदिग्ध को चिन्हित किया। फुटेज देखने व तकनीकी सहायता से विशेष टीम के सदस्यों द्वारा दिए गए इनपुट के आधार पर 16 अक्टूबर को अपहृत बालिका एवं अपहरणकर्ताओं के जयपुर में होने की सूचना मिली। इस पर विशेष टीम ने दबिश देकर बालिका को बरामद किया।

मामले मे 25 वर्षीय मजदूरी करने वाला राकेश उर्फ राहुल पुत्र मांगीलाल गुर्जर निवासी लांबा की ढाणी थाना आबूरोड सिरोही हाल निवासी भोजपुरा कच्ची बस्ती बाईस गोदाम जयपुर, उसकी पत्नी सुमन उर्फ मंजू पत्नी राकेश कुमार उर्फ राहुल पुत्री प्रभु लाल गुर्जर निवासी चोखी ढाणी थाना बांदीकुई जिला दौसा हाल भोजपुरा कच्ची बस्ती बाइस गोदाम जयपुर व राजू उर्फ राजेश बेरवा पुत्र रामफल बेरवा 20 साल निवासी बांसखोरी थाना बस्सी जयपुर को गिरफ्तार किया है। पूछताछ सामने आया कि आरोपी राकेश कुमार उर्फ राहुल की पत्नी मंजू देवी के कोई संतान नहीं होने से दुखी थी। संतान की आस में वह अक्सर अपने पति के साथ बंक्यारानी माता मंदिर पर पूजा अर्चना करने व मन्नत मांगने आया करती थी। घटना वाले दिन भी दोनों पति-पत्नी अपने जानकार राजू बेरवा के साथ मोटरसाइकिल पर बैठकर बंक्यारानी मंदिर आए थे। मौका पाकर मंदिर से बालिका को उठाकर ले गए।

बाइक नंबर, फुटेज व मोबाइल नंबर से ट्रेस हुए आरोपी... शाहपुरा एएसपी विमल सिंह ने बताया कि अपहरण की घटना के एक दिन पहले के फुटेज में युवकों के साथ एक महिला भी दिखी। बाइक नंबर आरजे 14 सीटी 100 जयपुर पासिंग होने के साथ ही माताजी के मंदिर के पास बीटीएस से संदिग्ध मोबाइल नंबर का पता किया। इसके अलावा आसींद, बदनौर व ब्यावर के रास्ते फुटेज में बाइक पर तीनों दिखने पर जांच केंद्र जयपुर को बनाया। वहां बाइक व मोबाइल नंबर के आधार पर पुलिस टीम आरोपियों तक पहुंची। घटना की रात 8:46 बजे दोनों युवक मंदिर से रोती बालिका को लेकर निकले। किसी को शंका न हो इसे लेकर दोनों अलग-अलग दिशा में निकले। कुछ दूर बाद तीनों साथ में तड़के करीब सवा तीन बजे जयपुर स्थित घर पहुंच गए। इससे पहले बालिका को एक युवक ने दुकान से खाने-पीने की चीजें भी दिलाई। घर पर बालिका को नए कपड़े पहना दिए।

प्रारंभिक पूछताछ में अपहरण का उद्देश्य अपना बच्चा नहीं होना बता रहे हैं, लेकिन इसके पीछे मानव तस्करी करना तो नहीं इसे ध्यान में रखते हुए शंभूगढ़ थानाधिकारी रामस्वरूप चौधरी जांच कर रहे हैं। गिरफ्तार आरोपियों के बारे में प्रारंभिक जांच में कोई आपराधिक रिकॉर्ड सामने नहीं आया, लेकिन संबंधित थाना क्षेत्रों से भी पता किया जा रहा है। दंपती की उम्र अभी 25-26 साल है ऐसे में इन लोगों ने अपने आप को निसन्तान कैसे मान लिया? बच्ची को सकुशल ढूंढ निकालने पर योगी समाज ने एसपी प्रीति चंद्रा, एएसपी विमल सिंह, डीएसपी गुलाबपुरा आदि पुलिसकर्मियों को पुष्प गुच्छ देकर सम्मान किया है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थिति तथा समय में तालमेल बिठाकर कार्य करने में सक्षम रहेंगे। माता-पिता तथा बुजुर्गों के प्रति मन में सेवा भाव बना रहेगा। विद्यार्थी तथा युवा अपने अध्ययन तथा कैरियर के प्रति पूरी तरह फोकस ...

और पढ़ें