पूर्व विधायक का हुआ विरोध:पंचायत समिति सदस्य ने पूर्व विधायक को कहा गेट आउट, नाराज होकर शिविर में नीचे बैठे, ग्रामीणों ने किया विरोध तो जाना पड़ा

भीलवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिविर में विवाद के दौरान समझात - Dainik Bhaskar
शिविर में विवाद के दौरान समझात

सरकार की ओर से चलाया जा रहा प्रशासन गांवों के संग अभियान राजनीति का अखाड़ा बनता जा रहा है। मंगलवार को बिजोलिया पंचायत समिति के कास्या ग्राम पंचायत में ऐसा ही माहौल देखने को मिला। जहां पंचायत समिति सदस्य नरेश मीणा व पूर्व विधायक विवेक धाकड़ के बीच विवाद हो गया। विवाद इतना बढ़ गया कि पंचायत समिति सदस्य ने शिविर में मौजूद सैंकड़ों लोगों के सामने गेट आउट कह दिया। इसके बाद विवेक धाकड़ नाराज होकर शिविर में नीचे बैठ गए। इस दौरान शिविर में मौजूद एसडीएम सीमा तिवाड़ी ने भी धाकड़ को समझाने की कोशिश की। लेकिन मामला नहीं बना। इसके बाद मौके पर मौजूद ग्रामीण भी विवेक धाकड़ के खिलाफ नारेबाजी कर आक्रोशित होने लगे। और लोगों का बढ़ता आक्रोश देख धाकड़ को शिविर छोडकर तुरंत रवाना होना पड़ा।

बताया जा रहा है कि इस शिविर को लेकर कास्या के ग्रामीणों ने एक दिन पहले ही कास्या सरपंच को ज्ञापन सौंपा था। इस ज्ञापन में उन्होने शिविर में किसी प्रकार का कोई स्वागत समारोह नहीं करने व स्थानीय जीते हुए जनप्रतिनिधियों को शिविर में मंच देने की मांग की थी। इसके बाद मंगलवार को आयोजित शिविर में पूर्व विधायक विवेक धाकड़ पहुंचे। जहां कार्यकर्ताओं ने उनका डीजे बजाते हुए स्वागत किया। जिससे सभी नाराज हो गए। पहले मंच पर पहुंचते ही बिजोलिया पंचायत समिति सदस्य नरेश मीणा ने उन्हे बाहर का रास्ता दिखा दिया। धाकड़ इस शिविर को सरकार का शिविर होने की बात कहकर शिविर में ही नीचे बैठने लगे तो ग्रामीणों ने उनका विरोध शुरू कर दिया।

विरोध के बाद विवेक धाकड़ को शिविर छोडकर जाना पड़ा।
विरोध के बाद विवेक धाकड़ को शिविर छोडकर जाना पड़ा।

ग्रामीण नहीं चाहते थे शिविर में स्वागत समारोह

इस मामले में एसडीएम सीमा तिवाड़ी ने बताया कि शिविर से एक दिन पहले कास्या सरपंच उनके बाद पाए थे। उन्होने बताया था कि ग्रामीण शिविर में कोई भी स्वागत समारोह नहीं चाहते और न ही जनप्रतिनिधियों को मंच देना चाहते है। एेसे में कोई जनप्रतिनिधि स्वागत समारोह करता है तो ग्रामीण विरोध प्रदर्शन करेंगे। एसडीएम ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए शिविर में पहले से पुलिस जाप्ता तैनात करवा रखा था। एसडीएम ने कहा कि पुलिस ने पूरे मामले को कंट्रोल कर लिया था।

विवाद का एक कारण यह भी

मंगलवार को हुए इस विवाद के पीछे एक कारण ओर भी बताया जा रहा है। 11 नवंबर को तिलस्मा गांव में शिविर का आयोजन हुआ था। जहां विवेक धाकड़ के प्रतिनिधि के रूप में उनके पिता कन्हैयालाल धाकड़ अतिथि के रूप में गए थे। वहां कार्यक्रम के बाद कन्हैयालाल धाकड़ उस क्षेत्र से जिला परिषद सदस्य श्यामा मीणा के बारे में टिप्पणी करते नजर आए। इसका वीडियों भी सामने आया। श्यामा मीणा कास्या गांव की ही है। और पंचायत समिति सदस्य नरेश मीणा की भाभी भी है। विवेक धाकड़ के विरोध का एक कारण यह भी माना जा रहा है।