• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bhilwara
  • Parag Used To Come During The Holidays, Many Memories Are Attached To Old Bhilwara, Parents Said That They Got The Floor By Hard Work

ट्विटर के नए CEO का ननिहाल है भीलवाड़ा:मम्मी-पापा बोले- शहर की पुरानी गलियों में गुजरा है पराग का बचपन, छुटि्टयों में यहीं रहता था

भीलवाड़ा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भीलवाड़ा पहुंचे पराग के मम्मी-पापा। उन्होंने यहां रिश्तेदारों से मुलाकात की। वे अपने पैतृक शहर अजमेर भी जाएंगे।। - Dainik Bhaskar
भीलवाड़ा पहुंचे पराग के मम्मी-पापा। उन्होंने यहां रिश्तेदारों से मुलाकात की। वे अपने पैतृक शहर अजमेर भी जाएंगे।।

पराग अग्रवाल ट्विटर के सीईओ बने ताे हर भारतीय गर्व कर रहा है। उनके ननिहाल भीलवाड़ा में भी कुछ ऐसी ही खुशी है। पराग का काफी बचपन पुराने भीलवाड़ा की गलियों में गुजरा है। जब भी छुटि्टयां पड़तीं तो पराग को भीलवाड़ा आना पसंद था। यह सारी बातें टि्वटर के नए सीईओ पराग अग्रवाल की मां शशि व पिता रामगोपाल अग्रवाल ने कही। वह दोनों मंगलवार रात को अपने निजी कार्यक्रम में शामिल होने भीलवाड़ा आए थे।

वे भीलवाड़ा में पराग की बुआ के बेटे अखिलेश मित्तल के घर रुके हैं। दो दिनों तक पराग के माता-पिता भीलवाड़ा में ही रहेंगे और आस-पास के क्षेत्र में पारिवारिक कार्यक्रमों में भाग लेंगे।

माता-पिता के साथ पराग अग्रवाल।
माता-पिता के साथ पराग अग्रवाल।

पराग के पिता मुंबई में बीएमआरसी में साइंटिस्ट है और माता बीवीजेटीई मुंबई में प्रोफेसर हैं। उन्होंने बताया कि पराग पढ़ाई के प्रति काफी सीरियस था। पराग इंटरनेशनल ओलंपियाड में गोल्ड मेडलिस्ट भी रहा है। वहीं 12वीं में महाराष्ट्र बोर्ड में उसकी 10वीं रैक बनी थी। पराग ने आईआईटी मुंबई से अपनी पढ़ाई की। पराग के माता-पिता ने बताया कि पराग 8 मार्च 2018 को ट्विटर में सीटीओ बने थे। तीन साल तक उन्होंने ट्विटर में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर काफी काम किया। इसी के चलते अब उन्हें सीईओ का मुकाम मिला है।

पराग अग्रवाल व उनकी बुआ के बेटे अखिलेश मित्तल। दोनों का बचपन साथ ही बीता था।
पराग अग्रवाल व उनकी बुआ के बेटे अखिलेश मित्तल। दोनों का बचपन साथ ही बीता था।

सब देखना चाहते हैं पराग को
जब पराग के पिता रामगोपाल से पूछा गया कि अब पराग राजस्थान कब आएंगे तो उन्होंने कहा कि पराग को सब देखता चाहते हैं। ज्यादातर ने पराग को काफी साल पहले देखा था, लेकिन अब विश्व की बेहतरीन कंपनी का ट्विटर का सीईओ बनने के बाद उसे सब देखना चाहते हैं। उन्होंने बताया कि फिलहाल पराग का कोई प्लान नहीं है। लेकिन, वह भीलवाड़ा में अपना ननिहाल और अजमेर में अपने दादा का घर हमेशा याद करता है।

अजमेर में रहता था परिवार
ट्विटर के नए सीईओ पराग अग्रवाल राजस्थान के अजमेर में जन्मे हैं। पराग के माता-पिता और दादा-दादी किराए के मकान में धानमंडी और खजाना गली में रहते थे। पराग के पिता की जॉब के चलते वे मुंबई शिफ्ट हुए और वहीं रहने लगे। ट्विटर के सीईओ जैक डोर्सी के इस्तीफे के बाद कंपनी ने पराग अग्रवाल को सीईओ बनाया है।

अजमेर के रहने वाले हैं ट्विटर के नए CEO:किराए पर रहता था परिवार, 4 दिसंबर को घर आएंगे पराग के मम्मी-पापा