पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bhilwara
  • Staged Austerities Of Ravana, Kumbhakarna And Vibhishan In Ramlila, Harisheva Has Been Performing Religious And Spiritual Rituals In Indifferent Ashram

आध्यात्मिक अनुष्ठान:रामलीला में किया रावण, कुंभकर्ण और विभीषण की तपस्या का मंचन,हरिशेवा उदासीन आश्रम में हाे रहे हैं धार्मिक और आध्यात्मिक अनुष्ठान

भीलवाड़ा9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

हरीशेवा उदासीन आश्रम में महामंडलेश्वर हंसराम उदासीन के सानिध्य में रामलीला, देवीलीला, कृष्णलीला सहित मंडल पूजन, रुद्राभिषेक, हवन यज्ञ, विभिन्न स्तोत्र पाठ, भागवत मूल पाठ पारायण, धार्मिक और आध्यात्मिक अनुष्ठान हो रहे हैं। इसी कड़ी में रामलीला मंचन में रावण, कुंभकरण, विभीषण की तपस्या एवं रावण का अत्याचार, पृथ्वी का प्रकार आदि का मंचन हुआ।

कार्यक्रम में पूर्व सभापति मंजू पोखरना, पूर्व पार्षद जितेंद्र दरियानी, भूपेंद्र मोगरा, विक्रम दाधीच, वर्षा दरियानी आदि श्रद्धालु शामिल हुए। नवरात्र व्रत पर्व पर सुबह कथा में “पाक्षिक महाशक्ति लीला कथा” के दूसरे दिन की कथा का वाचन करते हुए व्यासपीठ से स्वामी योगेश्वरानंद महाराज ने कहा कि जहां मोक्ष की प्रधानता होती है वहां भोग की गौणता होती है।

भोग और मोक्ष दोनों एक समय में एक जगह नहीं होते, लेकिन महाशक्ति दुर्गा अपने भक्तों को दोनों एक साथ देने में समर्थ हैं। शारदीय नवरात्र प्रत्येक मनुष्य के लिए शक्ति सचंय का सुनहरा अवसर है। भगवती महाशक्ति की 9 दिन आराधना करके प्रत्येक मनुष्य को शक्तिमान बनने का पूर्ण प्रयास करना चाहिए। देवी ब्रह्मचारिणी की झांकी के दर्शन हुए।

कथा एवं आरती में महामंडलेश्वर स्वामी हंसराम उदासीन, संत मयाराम, संत राजाराम, संत गोविंदराम एवं श्रद्धालु शामिल हुए। शाम को भागवत कथा के 31वें दिन कथा का वाचन और प्रवचन करते व्यासपीठ से स्वामी योगेश्वरानंद महाराज ने किया। शाम की आरती में खांडल विप्र समाज के जिलाध्यक्ष रामेश्वरलाल गोवला, पूर्व अध्यक्ष सत्यनारायण चोटिया, कोषाध्यक्ष श्याम सुंदर नवहाल, कमलेश झगनाड़िया, बनवारीलाल शर्मा, मदनलाल शर्मा, महेशचंद्र नवहाल, बालकृष्ण शर्मा, ओमप्रकाश खरबड़ा ने व्यासपीठ का पूजन किया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- चल रहा कोई पुराना विवाद आज आपसी सूझबूझ से हल हो जाएगा। जिससे रिश्ते दोबारा मधुर हो जाएंगे। अपनी पिछली गलतियों से सीख लेकर वर्तमान को सुधारने हेतु मनन करें और अपनी योजनाओं को क्रियान्वित करें।...

और पढ़ें