कांस्या शिविर में विवाद:पूर्व विधायक धाकड़ को शिविर में आने और कुर्सी पर बैठने से रोका, नीचे बैठे तो कहा- बाहर निकलो

तिलस्वां2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कास्यां शिविर में ग्रामीणों के बीच बैठे पूर्व विधायक विवेक धाकड़ एवं तैनात पुलिस जाब्ता। - Dainik Bhaskar
कास्यां शिविर में ग्रामीणों के बीच बैठे पूर्व विधायक विवेक धाकड़ एवं तैनात पुलिस जाब्ता।
  • पुलिस बुलानी पड़ी, शिविर एक घंटे तक स्थगित रहा, धाकड़ गए तक शुरू हुआ

कास्यां गांव में मंगलवार काे प्रशासन गांवाें के संग शिविर में पूर्व विधायक विवेक धाकड़ डीजे, ढोल-नगाड़ों, बिजौलिया प्रधान, उप प्रधान और सरपंचों के साथ पहुंचे। यह देख ग्रामीणाें ने पूर्व विधायक के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। पुलिस ने डीजे बंद करा दिया। पूर्व विधायक अंदर प्रवेश करने लगे तो लोगों ने कहा-गेट आउट। यह सुनकर धाकड़ समर्थक आक्रोशित हो गए और नारेबाजी करने लगे।

पुलिस ने समझाकर शांत किया। जब पूर्व विधायक अधिकारियों के पास लगी कुर्सी पर बैठने लगे तो पंचायत समिति सदस्य नरेश मीणा सहित अन्य लोगों ने यह कहते हुए विराेध किया कि आपके पास वर्तमान में काेई पद नहीं है। माहौल गरमाने पर पूर्व विधायक धाकड़ नीचे बैठ गए। इसके बाद भी हंगामा होता रहा तो एसडीएम ने एक घंटे के लिए शिविर स्थगित कर दिया। विरोध बढ़ता देख पूर्व विधायक धाकड़ कुछ देर बाद शिविर से चले गए। एक घंटे बाद दोबारा शिविर शुरू हुआ। इधर, हंगामे की संभावना के चलते प्रशासन ने शिविर स्थल पर पहले ही पुलिस जाब्ता तैनात कर दिया था।

पूर्व विधायक डीजे, ढोल-नगाड़ों और समर्थकाें के साथ आए थे शिविर में

पूर्व विधायक विवेक धाकड़ और मेरे बीच शिविर में किसी तरह का कोई विवाद नहीं हुआ। एक दिन पहले कास्यां सरपंच को ग्रामीणों ने ज्ञापन दिया था। जिसमें बताया था कि कोई भी जनप्रतिनिधि मंच पर नहीं बैठना चाहिए। माला, स्वागत सत्कार भी नहीं होना चाहिए। सरपंच ने मुझे भी इस संबंध में ज्ञापन दिया। मुझे लगा कि शिविर में कानून व्यवस्था नहीं बिगड़े इसलिए पुलिस जाब्ता बुलाया गया। सीमा तिवाड़ी, उपखंड अधिकारी बिजौलिया

मैं जनप्रतिनिधि के नाते शिविर में गया था, पंचायत समिति सदस्य नरेश मीणा ने यह कहते हुए कुर्सी पर बैठने नहीं दिया कि आप पूर्व विधायक हैं। उन्हाेंने मुझे गेट आउट कहा। यह सुनकर समर्थक नारेबाजी करने लगे। एसडीएम ने कहा कि शिविर स्थगित करना पड़ेगा तो मैंने कहा कि आप शिविर सुचारू रखिए, मैं चला जाता हूं। एसडीएम को हंगामा कर रहे लोगों को रोकना चाहिए। उन्होंने ऐसा नहीं किया। विवेक धाकड़, पूर्व विधायक

एसडीएम और धाकड़ में कई देर तक होती रही बहस

एसडीएम: मैं आपसे निवेदन कर रही हूं कि आप ऊपर बैठिए और आप मुझे ही कह रहे हैं, यह अजीब हो रहा है।

पूर्व विधायक: अजीब तो मुझे भी लग रहा है, कि शिविर में आते ही मुझे गेट आउट कहा गया है। यहां आया तो महिलाओं ने पानी और गंदगी की समस्या बताई, उनकी सुनवाई नहीं हो रही है। समाधान के लिए कांग्रेस सरकार शिविर लगा रही है। कोई बात नहीं मैं जा रहा हूं।

खबरें और भी हैं...