सांसों की मिसाइल:65 लाख रुपए में खरीदा टैंक, ऑक्सीजन मंगाकर स्टोर करेंगे, एकसाथ भरे जा सकेंगे 2000 सिलेंडर

भीलवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एमजी अस्पताल परिसर में लगा ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक। - Dainik Bhaskar
एमजी अस्पताल परिसर में लगा ऑक्सीजन स्टोरेज टैंक।

काेराेना का नया वेरिएंट राजस्थान में दस्तक दे चुका है। इसे देखते हुए महात्मा गांधी जिला अस्पताल में 65 लाख रुपए से नया ऑ|क्सीजन स्टोरेज टैंक मंगवाया है। इसमें 20 टन ऑक्सीजन स्टोरेज कर सकते हैं। इससे 2 हजार िसलेंडर भरे जा सकेंगे। काेराेना की दूसरी लहर में सांसाें पर संकट आ गया था।

अस्पतालाें में राेगियाें काे देने के लिए ऑक्सीजन की बेहद कमी हाे गई थी। उस तरह की परेशानी अब नहीं हाे इसलिए एमजी अस्पताल में पांच प्लांट बनेंगे। इनमें 4 बन चुके हैं। एनेस्थिसिया विभाग के अध्यक्ष डाॅ. वीरेंद्र शर्मा ने बताया कि एआरटी सेंटर के पास लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन प्लांट इसी महीने में तैयार हाे जाएगा।

भास्कर नाॅलेज लिक्विड रूप में स्टोर रहेगी ऑक्सीजन, उपयाेग करते समय गैस रूप में बदलेगी...अधीक्षक डाॅ. अरुण गाैड़ के अनुसार मौजूदा प्लांट में ऑक्सीजन वायुमंडल में माैजूद हवा से बनाई जा रही है। यह कम व धीमे बनती है। किशनगढ़, भिवाड़ी व जामनगर आदि शहराें मंे पानी से भी ऑक्सीजन बनाई जाती है।

यह तेजी से और ज्यादा बनती है। अब यहीं प्लांट लगाया है। इसमें ऑक्सीजन लिक्विड रूप में रहेगी। उपयाेग के समय यह गैस रूप में बदल जाएगी। इसमें दाे हजार सिलेंडर जितनी गैस स्टाेर रख सकेंगे। अभी चार साै सिलेंडर प्रतिदिन उत्पादन है।

खबरें और भी हैं...