पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फड़ रामलीला छठा दिन:मायावी रावण का आना व सीता हरण

भीलवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भीलवाड़ा। ऐसा पहली बार है कि शारदीय नवरात्र में जिलेभर में कहीं भी रामलीलाओं का सार्वजनिक मंचन नहीं हाे रहीं। कुछ स्थानाें पर हाे भी रही हैं ताे प्रतीकात्मक। इनमें कुछ कलाकार आते हैं जाे रामायण पाठ व आरती करते हैं। कहीं-कहीं प्रसंग की झांकी भी सजाई जा रहीं ताकि परंपरा न टूटे। चूंकि काेराेना संक्रमण फैलने का खतरा है इसलिए हमें भी भीड़ से बचना है।

ऐसे में आप दैनिक भास्कर के साथ रामलीला दर्शन कर सकते हैं। लोक देवताओं की जीवनगाथा पर बनने वाली मेवाड़ की प्रमुख चित्रशैली फड़ में नवाचार करते रहे राष्ट्रपति से सम्मानित कल्याण जोशी ने पूरी रामकथा कूंची से उकेरी है। इसी में आज रावण का मायावी बनकर वन में राम कुटिर पर आने व सीता हरण करने का प्रसंग।

एक निवेदन: इस धराेहर काे आप संग्रहित करें...

सून बीच दसकंधर देखा, आवा निकट जती कें बेषा। जाकें डर सुर असुर डेराहीं, निसि न नींद दिन अन्न न खाहीं।।

रावण ने वन में सन्नाटे का माैका देखकर यति यानि सन्यांसी का वेष धर लिया। वह सीताजी के समीप आया। उसके डर से देवता और दैत्य तक इतना भयभती रहते हैं कि रात काे उन्हें नींद नहीं आती। दिन में वे अन्न ग्रहण नहीं कर पाते।

तब रावन निज रूप देखावा, भई सभय जब नाम सुनावा। कह सीता धरि धीरजु गाढ़ा, आई गयउ प्रभु रहु खल ठाढ़ा।।

तब रावण ने अपना असली रूप दिखलाया और जब नाम बताया ताे सीताजी भयभीत हाे गईं। उन्हाेंने गहरा धीरज धरा। क्राेधित हाेते हुए कहा- अरे दुष्ट... ठहर ताे सही, प्रभु श्रीराम आ गए हैं। वे अभी तुझे अपराध की सजा देंगे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें