• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bhilwara
  • To Benefit The Favorite Contractor, A New Condition Was Added In The Cleaning Contract Of Rs 70 Lakh, Had To Be Removed On The Complaint.

मिलीभगत:चहेते ठेकेदार को फायदा दिलाने के लिए 70 लाख रुपए के सफाई ठेके में नई शर्त जोड़ी, शिकायत पर हटानी पड़ी

भीलवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सामुदायिक शौचालयाें की सफाई के हुए थे 42 और 28 लाख रुपए के टेंडर

नगर परिषद में चहेते ठेकेदारों को टेंडर में फायदा दिलाने को लेकर शर्तों में जोड़-तोड़ की जाती है। इसका एक और उदाहरण सामने आया। सामुदायिक शौचालयाें में सफाई के लिए 70 लाख रुपए के टेंडर हाल ही लगाए। इनमें चहेते ठेकेदार को फायदा दिलाने के लिए विशेष शर्त जोड़ दी, ताकि अन्य ठेकेदार अपात्र हाे जाएं।

रेलवे लाइन के दोनों ओर के सामुदायिक शौचालयों की सफाई और रखरखाव के लिए 42 और 28 लाख रुपए के टेंडर जारी किए गए। इनमें पहली बार शर्त रख दी कि 5 वर्ष में दो वर्ष सामुदायिक शौचालय की सफाई और रखरखाव का अनुभव हो। जबकि जिन श्रमिकों को काम करना है उनकी श्रेणी वैसे ही अकुशल रखी गई। इस शर्त में जब अधिकांश ठेकेदार टेंडर प्रक्रिया से अपात्र होने लगे तो विराेध भी हुआ। कलेक्टर के पास शिकायत पहुंचने पर आयुक्त को शर्त हटानी पड़ी। पूर्व पार्षद मनोज पालीवाल ने बताया कि शिकायत के बाद कलेक्टर ने शर्त में बदलाव को लेकर आयुक्त दुर्गाकुमारी को आदेश जारी किया।

कारण : जनस्वास्थ्य शाखा के लिपिक और ठेकेदार के बीच कारोबारी संबंध

विशेष शर्त इसलिए जोड़ी गई क्योंकि जनस्वास्थ्य शाखा के एक लिपिक और ठेकेदार महादेव लोट में कारोबारी संबंध हैं। जनस्वास्थ्य शाखा के उक्त लिपिक का दूसरी शाखा में 10 सितंबर को तबादला कर दिया लेकिन अब तक ज्वाइन नहीं किया।

क्योंकि टेंडर 30 सितंबर को खुलने हैं। इस बीच 10 सितंबर काे ही इसी लिपिक ने एक ही दिन में टेंडर प्रक्रिया की पूरी फाइल तैयार कर दी। वर्तमान में सामुदायिक शौचालयों की सफाई का कार्य ठेकेदार महादेव लोट करवा रहा है। कोरोना में दो बार इस टेंडर की अवधि भी बढ़ाई, लेकिन नया टेंडर नहीं किया गया। जबकि सभापति राकेश पाठक ने आदेश कर रखा था कि टेंडर की अवधि न बढ़ाते हुए नया टेंडर किया जाए। अब जाकर टेंडर निकाला गया।

खबरें और भी हैं...