हॉस्पिटल में बच्चों की मौत पर NCPCR अध्यक्ष भीलवाड़ा आई:10 दिन के बच्चे की पोस्टमार्टम रिपोर्ट देखी, डॉक्टरों से ली जानकारी

भीलवाड़ा3 महीने पहले
वॉर्मर की हीट ज्यादा होने से दो नवजात की मौत के बाद महिला एवं बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनिवाल  भीलवाड़ा पहुंची।

भीलवाड़ा के महात्मा गांधी हॉस्पिटल में रेडिएंट वार्मर की ज्यादा हीट से 10 और 21 दिन के नवजातों की मौत हो गई थी। मामले में संज्ञान लेने के लिए महिला एवं बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनिवाल शनिवार को पहुंची। बेनिवाल सीधे कलेक्ट्रेट पहुंची और अधिकारियों की मीटिंग ली। उन्होंने कलेक्टर और महात्मा गांधी हॉस्पिटल के अधिकारियों से पूरे मामले पर बात की।

बैठक में हॉस्पिटल के अधीक्षक डॉ. अरूण गौड़ ने बताया कि बच्चों की मौत वार्मर मशीन पर हीट बढ़ने से हुई थी। सबसे ज्यादा लापरवाही NICU में लगे दो ठेकाकर्मियों की रही। दोनों को हादसे वाले दिन ही हटा दिया गया। चित्तौड़गढ़ की 10 दिन बच्ची के परिजनों ने पोस्टमार्टम करवाने से मना कर दिया था। वहीं दूसरे दिन बच्चे की मौत के बाद उसका पोस्टमार्टम करवाया गया था। मामले में हॉस्पिटल के डॉक्टर और दो कर्मचारियों को नोटिस दिया है। दो डॉक्टर को कारण बताओ नोटिस दिया है। बेनिवाल ने हॉस्पिटल में दुबारा ऐसी घटना न हो, इसे लेकर निर्देश दिए है। इस दौरान कलेक्टर आशीष मोदी, एसपी आदर्श सिद्धू सहित कई अधिकारी मौजूद थे।

भीलवाड़ा का महात्मा गांधी हॉस्पिटल, जिसके NICU में रेडिएंट वॉर्मर की हीट से दो बच्चों की मौत हो गई थी।
भीलवाड़ा का महात्मा गांधी हॉस्पिटल, जिसके NICU में रेडिएंट वॉर्मर की हीट से दो बच्चों की मौत हो गई थी।

10 दिन के बच्चे की जलने और ऑर्गन फेल होने से मौत
भीलवाड़ा के हुरड़ा के रहने वाले विष्णु खटीक के 10 दिन के बच्चे की मौत के बाद पोस्टमार्टम करवाया गया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में नवजात की मौत का कारण शरीर जलता और उसके ऑर्गन फेल होना पाया गया है। शरीर में आक्सीजन की कमी से मौत हो गई। वहीं चित्तौड़गढ़ के मरमी गांव के रहने वाले पप्पू वैष्णव ने 21 दिन की बच्ची की मौत के बाद पोस्टमार्टम करवाने से मना कर दिया था।

डॉक्टरों को जारी किए नोटिस
जांच के बाद हॉस्पिटल प्रबंधन ने काम में लापरवाही बरतने के मामले में एमसीएचसी सेंटर के कार्यवाहक प्रभारी डॉ.कुलदीप सिंह, नर्सिंग आफिसर सलीम व सुनील पोरवाल को 16 सीसी का नोटिस जारी किया है। इसके साथ ही डॉ. शालिनी और डॉ. रविनाथ को कारण बताओ का नोटिस जारी किया है।

वार्मअप मशीन में थी खराबी
NICU में लगे वार्मअप मशीन में लम्बे समय से तकनीकी खामी चल रही थी। वार्मअप मशीन में रखे गए बच्चों को सिर्फ 35 डिग्री का तापमान चाहिए था। लेकिन वार्मअप मशीन 43 डिग्री पर हीट हो रही थी। ऐसे में दोनों की बच्चों हो गई। ड्यूटी करने वाले स्टाफ और डॉक्टर ने मामले की हॉस्पिटल प्रबंधन को शिकायत भी कर रखी थी। यहां कई मशीन ओवर हीट कर रही थी। ऐसे में प्रबंधन से इस बात पर ध्यान ही नहीं दिया और न ही ड्यूटी पर आए डॉक्टर और कर्मचारियों ने इस बात पर ध्यान दिया। ओवर हीट करने वाली एक मशीन पर इन दो मासूम को रख दिया गया था। लेकिन प्रबंधन ने डॉक्टर को नोटिस देकर अपनी गलती को छुपा दिया।

ये भी पढ़ें

अस्पताल में जलने से 21 दिन की बच्ची की मौत:NICU में भर्ती थी; वॉर्मर पर पिता को झुलसी मिली, परिजनों का हंगामा

भीलवाड़ा के महात्मा गांधी हॉस्पिटल में वॉर्मर में ज्यादा तापमान रखने से 21 दिन की बच्ची की मौत हो गई। एक बच्चा झुलस गया। वजन कम होने के कारण बच्ची को NICU में रखा गया था। NICU के बाहर खड़ा पिता बेटी को देखने गया तो उसके होश उड़ गए।

चित्तौड़गढ़ के मरमी गांव के रहने वाले पप्पू वैष्णव ने बताया कि 5 अक्टूबर को बेटी पैदा हुई थी। तबीयत खराब होने पर 10 अक्टूबर को एमसीएचसी में भर्ती करवाया गया था। डॉक्टरों ने जांच के बाद बच्ची का वजन कम होने पर NICU में रख दिया। NICU में रात के समय ठेके पर लगे दो कर्मचारी ड्यूटी पर थे। उन्होंने बताया कि मंगलवार रात तीन बजे वह अपनी बच्ची के पास गया तो वह झुलसी मिली। वॉर्मर से ज्यादा हीट होने के कारण बच्ची जल गई। डॉक्टरों ने जब तक देखा उसकी मौत हो चुकी थी। (पूरी खबर पढ़ें...)

सरकारी अस्पताल की मशीन में लेटे 2 बच्चे जले, मौत:भीलवाड़ा में नौसिखिए स्टाफ की लापरवाही; 10 और 21 दिन के थे मासूम

सरकारी हॉस्पिटल में वार्मर से झुलसे दूसरे बच्चे की भी मौत हो गई। वह मात्र 10 दिन का था। मशीन ज्यादा हीट होने की वजह से 2 बच्चे झुलस गए थे। एक की मौत बुधवार को ही हो गई थी। वह मात्र 21 दिन का ही था। दूसरे बच्चे की मौत गुरुवार सुबह हुई है।

मासूमों की मौत के बाद हॉस्पिटल में परिवार वालों ने हंगामा खड़ा कर दिया। पुलिस ने उन्हें खूब समझाने की कोशिश की। परिवार वालों ने 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया है। अगर कोई कार्रवाई नहीं हुई तो 31 अक्टूबर को भीलवाड़ा बंद की चेतावनी दी है। मामला भीलवाड़ा के महात्मा गांधी हॉस्पिटल का है। (पूरी खबर पढ़ें...)