दया का क्षेत्र व्यापक:त्रयंबकेश्वर चैतन्य ने कहा हरिशेवा धाम में नर्मदा व माही नदी की महिमा का वर्णन किया, दान का सीमित है

भीलवाड़ा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हरिशेवा धाम में कथा वाचन करते संत। - Dainik Bhaskar
हरिशेवा धाम में कथा वाचन करते संत।

बाल ब्रह्मचारी त्रयंबकेश्वर चैतन्य महाराज ने कहा कि वर्तमान में जो भी घट रहा है, उसके पीछे कोई ना कोई कारण होता है। दया का क्षेत्र व्यापक है। प्रत्येक मनुष्य को दयावान होना चाहिए। दान का क्षेत्र सीमित है। नर्मदा नदी के किनारे जितना अन्न दान होता है, उतना दुनिया के किसी भी क्षेत्र में नहीं होता है। नर्मदा का कंकड़-कंकड़ शंकर है। यह बात संत ने शनिवार को हरिशेवा धाम में प्रवचन में कही। प्रवक्ता रजनीकांत आचार्य ने बताया कि कवि अरुण दाधीच ने गुरु वंदना ‘गुरु मेरे अंगना आन पधारो’ प्रस्तुत की। महामंडलेश्वर हंसराम उदासीन के सानिध्य में प्रवचन राेज अपराह्न 3 से शाम 5 बजे तक हाेते हैं।

निंबार्क आश्रम में शिव महापुराण कथा 15 से सावन के उपलक्ष में गांधीनगर स्थित निंबार्क आश्रम में शिव महापुराण कथा 15 से 21 अगस्त तक होगी। पुजारी माधवशरण ने बताया कि महंत मोहनशरण शास्त्री व्यासपीठ से राेज दोपहर 2 से शाम 5 बजे तक कथा वाचन करेंगे। इसे लेकर आश्रम में हुई मीटिंग में ओमप्रकाश काकानी, संजय निमोदिया, गोपाल सुखवाल, शांतिलाल अजमेरा, राधेश्याम अजमेरा, रूपलाल अजमेरा, मिश्रीलाल अजमेरा, अशोक मूंदड़ा, देवेश मूंदड़ा,पार्षद राधेश्याम सोमानी ने व्यवस्थाओं पर चर्चा की।

बाबाधाम में सावन महाेत्सव

श्री बाबाधाम में अध्यक्ष विनीत अग्रवाल के सानिध्य में सावन महाेत्सव मनाया जा रहा है। यहां ऋण मुक्तेश्वर गौरीशंकर महादेव का विशेष श्रृंगार किया जा रहा है। बाबाधाम में गौरीशंकर का शिवलिंग एक साथ है, जो देश में पहला बताया जाता है। इसमें माता गौरी लाल रंग में व शिवजी हरे रंग में एक ही शिवलिंग में विद्यमान है। यहां राेज पंडित योगेन्द्र शर्मा व शिवकुमार जोशी के मंत्रोच्चारण के साथ अभिषेक व हवन हाे रहा है।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...