डेवलपमेंट प्लान-2035 की अधिसूचना जारी:यूआईटी ने तीन जोनल प्लान जारी किए, दस साल से लंबित 9 हजार फाइलों के पट्‌टे बनेंगे

भीलवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

यूआईटी ट्रस्ट से अनुमोदन के बाद शहर के तीन जोनल डेवलपमेंट प्लान की अधिसूचना जारी हो गई। जोन ‘ए’, ‘सी’ एवं जोन ‘डी’ का अनुमोदन 26 नवंबर को कलेक्टर एवं यूआईटी चेयरमैन शिवप्रसाद एम नकाते की अध्यक्षता में बैठक के दाैरान ट्रस्ट ने किया। आपत्तियों एवं सुझावों पर चर्चा के बाद मास्टर प्लान में कोई बदलाव नहीं होने से नियमानुसार जोनल डेवलपमेंट प्लान-2035 की अधिसूचना जारी कर दी गई।

प्लान के अभाव में यूआईटी में 9 हजार पत्रावलियां नियमन के लिए लंबित थीं। यूआईटी सचिव अजय आर्य ने बताया कि अब यूआईटी स्वत: संज्ञान लेकर 90 ए ले-आउट स्वीकृत कर नियमन की कार्रवाई कर सकेगी। उल्लेखनीय हे कि यूआईटी ने शहर को पांच जोन में बांटते हुए जोनल डेवलपमेंट प्लान बनवाया।

कंसल्टेंट मालवीय राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, जयपुर (एमएनआईटी) ने प्रथम चरण में तैयार प्लान पर आपत्ति व सुझाव पर चर्चा करके अधिसूचना जारी की। इसी प्रकार, जोन बी के संबंध में 9 दिसंबर एवं जोन ई-1 के संबंध में 19 दिसंबर तक आपत्ति आमंत्रित की गई है।

ट्रस्ट ने ये तीन और निर्णय लिए

80 फीट चौड़ी सड़क पर मिश्रित उपयोग हो सकेगा। प्रस्तावित आवासीय उपयोग पर एकल भूखंड की गहराई या सड़क की चौड़ाई का 1.5 गुणा, मिश्रित उपयोग की स्वीकृति होगी।

नगर परिषद या गैर योजना क्षेत्र में 60 फीट एवं इससे अधिक की सड़क के दोनों ओर एकल भूखंड की गहराई या सड़क की चौड़ाई के 1.5 गुणा क्षेत्र में मिश्रित उपयाेग की इजाजत हाेगी।

नगर परिषद के सघन आबादी क्षेत्र जिस पर परंपरागत वाणिज्यिक या मिश्रित उपयाेग हाे रहा है। साथ ही जिन सड़कों के मार्गाधिकार मास्टर प्लान जाेनल प्लान में निर्धारित नहीं है। उन सड़कों का भी मिश्रित उपयाेग करने की स्वीकृति प्लान में दी गई है।

खबरें और भी हैं...