पराग का ननिहाल भीलवाड़ा में:पढ़ाई, काम व मस्ती में बैलेंस रखता था, कम पढ़ता लेकिन फोकस था...रिलेक्स होने के लिए अब भी टेनिस खेलता है

भीलवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भीलवाड़ा पहुंचे टि्वटर के सीईओ के माता पिता, बुआ के परिवार के साथ। - Dainik Bhaskar
भीलवाड़ा पहुंचे टि्वटर के सीईओ के माता पिता, बुआ के परिवार के साथ।
  • सीईओ बनने के अगले दिन भीलवाड़ा आए मम्मी-पापा, बताई उनकी सक्सेस ट्रिक

पराग पढ़ाई में शुरू से टाॅपर ही रहा है लेकिन पढ़ाई, काम और मस्ती का बैलेंस बनाए रखता था। आज वे जिस मुकाम पर है वे हिंदुस्तान के लिए गाैरव की बात है। उसे टेनिस खेलने का बहुत शाैक है। रिलेक्स होने के लिए आज भी समय निकालता है। वे भले कम पढ़ता था लेकिन उसका फाेकस तय था इसलिए आज दुनिया की बड़ी कंपनी की कमान मिली है। दरअसल, पराग का ननिहाल शहर के गुलमंडी एरिया में है। मंगलवार शाम काे पराग के पापा रामगाेपाल अग्रवाल व मम्मी शशि अग्रवाल रिश्तेदाराें के यहां पहुंचे।

पराग के बचपन से लेकर टि्वटर के सीईओ बनने तक की कहानी उनके मम्मी-पापा से जानिए

परिवार: मेरा जन्म यहीं का इसलिए मेरा सब कुछ यहीं पराग की मां ने कहा कि मेरा जन्म ताे भीलवाड़ा में ही हुआ है। 1978 में उनकी शादी अजमेर हुई थी। इसके बाद पराग के पापा की जाॅब मुंबई में हाेने से वहां शिफ्ट हाे गए। पराग का जन्म अजमेर में हुआ लेकिन बचपन में आना-जाना खूब रहा। यहां उनके बुआ के लड़के अखिलेश मित्तल भाई है लेकिन दाेस्त की तरह रहते हैं। उनकी बुआ का घर पांसल चौराहे के पास है। बहन कुनल अमेरिका में प्राेफेसर हैं। वह पराग काे हमेशा माेटिवेट करती थी।

भीलवाड़ा : वह 3-3 महीने तक पुराने शहर में रहता था

ट्विटर के नए सीईओ पराग काे अपने ननिहाल भीलवाड़ा में रहना बहुत पसंद था। इसलिए मां के साथ छुट्टियाें में यहां आकर दाे से तीन महीने रहता था। यहां पुराने शहर की गलियाें में घूमना उसकाे बहुत पसंद था। अभी समय कम हाेने के कारण यहां आ नहीं पाता है लेकिन यहां बनी दाल, बाटी चूरमा उसे बहुत पसंद है।

पढ़ाई : पढ़ाई से कभी समझाैता नहीं किया

वे भले कम पढ़ता था लेकिन उसका फाेकस तय था इसलिए आज दुनिया की बड़ी कंपनी की कमान मिली है। उसने पढ़ाई से कभी समझाैता नहीं किया। इंटरनेशनल फिजिक्स ओलंपियाड में गाेल्ड मेडलिस्ट रहा है। 12वीं कक्षा में महाराष्ट्र बाेर्ड में दसवीं रैंक तथा आईआईटी जेईई में ऑल इंडिया 77 रैंक रही।

पापा साइंटिस्ट और मां प्राेफेसर है

पराग का जन्म 21 मई 1984 को हुआ। उसकी पढ़ाई मुंबई में हुई। पिता मुंबई में बीएमआरसी में साइंटिस्ट कार्यरत थे, वहीं मां बीवीजेटीई मुंबई में प्राेफेसर हैं।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर वर्किंग से चर्चा में आए थे पराग

अब तक पराग अग्रवाल टि्वटर में सीटीओ यानी चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर के पद पर नियुक्त थे। उनके पहले इस पद पर एडम मेसिंगर नियुक्त थे। एडम ने दिसंबर 2016 में कंपनी छोड़ दी थी। उनके बाद पराग अग्रवाल को 8 मार्च 2018 में सीटीओ बनाया। पराग अग्रवाल ने टि्वट की अहमियत को बढ़ाने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर जो काम किया था, उसकी खूब सराहना हुई थी। जब वह स्टैंडफोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे थे, उस दौरान उन्होंने माइक्रोसॉफ्ट, याहू और एटीएंडटी जैसी दिग्गज कंपनियों में इंटर्नशिप भी की थी। ट्विटर के सीईओ डोर्सी के इस्तीफा देने के बाद पराग काे सीईओ की जिम्मेदारी दी गई है।

खबरें और भी हैं...