पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Bhilwara
  • Vocational Training From Class 6th, Teaching Foreign Language From Ninth To Good Provisions, These Will Increase Opportunities For Self employment

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति:कक्षा छह से व्यावसायिक प्रशिक्षण, नौवीं से विदेशी भाषा सिखाना अच्छे प्रावधान, ये स्वरोजगार के अवसर बढ़ाएंगे

भीलवाड़ा11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मंच पर सीबीईओ ब्रह्मराम चौधरी, योगेश पारीक, प्रहलाद पारीक, नारायणलाल जागेटिया, कल्पना शर्मा आदि। - Dainik Bhaskar
मंच पर सीबीईओ ब्रह्मराम चौधरी, योगेश पारीक, प्रहलाद पारीक, नारायणलाल जागेटिया, कल्पना शर्मा आदि।
  • तीन साल का बच्चा स्कूल आने लगेगा, उसकी स्वच्छता का ध्यान रखना व मनोविज्ञान समझना होगा

दैनिक भास्कर एवं शिक्षा विभाग के संयुक्त तत्वावधान में सोमवार को नई शिक्षा नीति-2020 को लेकर कार्यशाला हुई। शिक्षक दिवस के उपलक्ष्य में सेमुमा राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय में आयोजित उक्त कार्यशाला में शहर के शिक्षाविदों, अधिकारियों व विभिन्न स्कूलों के संस्था प्रधानों ने मंथन किया। शिक्षक दिवस के उपलक्ष्य में कार्यशाला के मुख्य वक्ता एडीईओ माध्यमिक नारायण लाल जागेटिया थे।

उन्होंने नई शिक्षा नीति के उद्देश्य व चुनौतियों पर विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि नई शिक्षा नीति में शैक्षिक ढांचा 5+3+3+4 रहेगा। पहले पांच साल में तीन साल नर्सरी (आंगनबाड़ी) तथा दो साल प्री प्राइमरी के रहेंगे। अगले तीन-तीन साल तीसरी से पांचवीं तक एवं छठी से आठवीं कक्षा के रहेंगे। अंतिम चार साल कक्षा 9वीं से 12वीं तक रहेंगे। कक्षा छह से व्यावसायिक शिक्षा एवं कक्षा 9 से बच्चों को विदेशी भाषा का ज्ञान सिखाया जाएगा जो अच्छे प्रावधान हैं। कार्यशाला का प्रारंभ मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी ब्रह्माराम चौधरी, एडीपीसी समसा प्रहलाद पारीक, जिला शिक्षा अधिकारी (मुख्यालय) प्रारंभिक योगेश पारीक एवं सहायक निदेशक कमलेश शर्मा ने दीप प्रज्ज्वलन करके किया। सेमुमा राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय की प्रधानाचार्य आशा लढा ने आभार जताया। सीडीईओ चौधरी ने संस्था प्रधानों से नई शिक्षा नीति के बारें में जानकारी लेकर इसे लागू करने के निर्देश दिए। संचालन व्याख्याता वीरेंद्र शर्मा ने किया। सभी ने भास्कर की इस पहल की सराहना की।

शिक्षा नीति की ये चुनौतियां बताईं

  • 3 साल के बच्चे के साथ उसकी स्वच्छता, जुड़ाव एवं मनोविज्ञान समझना होगा।
  • केवल तीन साल की आयु में ही बच्चे के स्कूल जाने से अभिभावकों के प्यार में कमी आ सकती है।
  • वृद्धाश्रम जैसी परिस्थिति उत्पन्न हो सकती है।

जिला से स्कूल स्तर तक टास्क फोर्स का गठन किया
समसा एडीपीसी प्रहलाद पारीक ने बताया कि नई शिक्षा नीति के क्रियान्वयन को लेकर जिला स्तर पर कलेक्टर की अध्यक्षता में टास्क का फोर्स का गठन हो चुका है। इसी प्रकार, ब्लॉक व स्कूल स्तर पर टास्क फोर्स का गठन कर दिया गया है। शिक्षा नीति में शामिल विषयों को लागू किया जा रहा है। डीईओ योगेश पारीक ने बताया कि नई शिक्षा नीति की जानकारी सभी शिक्षकों को होनी चाहिए। इसके लेकर एक प्रश्नावली तैयार की जा रही है। जिसे ऑनलाइन सभी शिक्षकों तक पहुंचाया जाएगा। दैनिक भास्कर की ओर से आयोजित कार्यशाला से नई शिक्षा नीति के प्रचार प्रसार में सहयोग मिलेगा।

बच्चों के व्यावसायिक कौशल में बढ़ोतरी...
मुख्य वक्ता प्रतापनगर स्कूल की प्रिंसिपल कल्पना शर्मा ने कहा कि कोरोना महामारी में शिक्षकों ने ऑनलाइन अध्यापन के माध्यम से बच्चों को शिक्षा दी। बच्चे इंटरनेट फ्रेंडली हुए। यह सकारात्मक भी है तो नकारात्मक भी। एक बड़ा सकारात्मक परिणाम यह आया कि अभिभावक जागरुक हुए। वे स्कूल से गया फोन रिसीव करते हैं। छात्र से संबंधित अध्यापक की बात करवाते हैं। अभिभावक शिक्षक और छात्र के बीच संवाद का अहम सेतु बन गए हैं।

इन संस्थाप्रधानों की रही कार्यशाला में सहभागिता...
बालिका प्राथमिक विद्यालय गांधीनगर (मोखमपुरा) की शकुंतला असावा, माध्यमिक विद्यालय मोहम्मदी कॉलोनी की साधना भंडारी, माध्यमिक विद्यालय मालीखेड़ा(चंद्रशेखर आजाद नगर) की सीमा वर्मा, माध्यमिक विद्यालय धानमंडी से दिव्या ओबेराय, गुलमंडी स्कूल से सीमा सोडाणी, सुभाषनगर प्राथमिक विद्यालय से दुर्गा जोशी, उप्रावि दादाबाड़ी से सुमित्रा पारीक, बालिका विद्यालय पुर से आशा सोनी, उमावि पुर से मधुमति मुणोत, प्रावि कुवाड़ा से अरुणा दवे, प्रावि ओडों का खेड़ा से पुष्पा जैन, प्रावि छोटी हरणी से स्नेहलता काल्या, प्रावि बलिया खेड़ा पुर से उषा आर्या, प्रावि जुलाहा बस्ती पुर से गीता होतवानी, बालिका उप्रावि नाथद्वारा सराय से संध्या जैन, प्रावि हाउसिंग बोर्ड से रेखा पांडे, बालिका जूनावास से सुधा ओझा, उप्रावि कांवाखेड़ा से सुषमा शर्मा, उप्रावि नाथद्वारा सराय से सुमन शर्मा, बालिका बापूनगर से नवरतन मल, उप्रावि पीथास से सुनील कुमार डीडवानियां, उप्रावि हरणी कला से राज घावरी, सांगानेर उमावि से संजय कुमार, बापू कॉलोनी प्रावि से रतन लाल बैरवा, प्रावि खटीक मोहल्ला सांगानेर से हेमंत सोनगरा, उप्रावि शास्त्रीनगर से पारस कुमार जैन, उमावि भीमगंज से दिनेश कुमार पीपाड़ा, राजेंद्र मार्ग से श्यामलाल खटीक, न्यू हाउसिंग बोर्ड से विश्वजीत सिंह, प्रावि धांधोलाई से सत्यनारायण विश्नोई एवं प्रावि माधोपुर से मोहम्मद यासीन उपस्थित थे। उल्लेखनीय है कि शिक्षक दिवस पर दैनिक भास्कर में विशेष अंक और कोरोना काल में सेवाएं देते हुए संक्रमित होने से दिवंगत हुए शिक्षकों को श्रद्धांजलि देते विशेषांक प्रकाशित किया था। शिक्षकों ने इसकी सराहना की।

खबरें और भी हैं...