जल संकट / पनघट की टंकियां-टूटियां भी पानी को तरसीं

Water tanks and cracks also like water
X
Water tanks and cracks also like water

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 05:14 AM IST

भीलवाड़ा. खेराड़ क्षेत्र के एक दर्जन से अधिक गावों में दो माह से पेयजल वितरण यूं ताे पातरे आधार पर बताया हुआ है लेकिन लोगों को चार-पांच दिन का पानी का इंतजार करना पड़ता है। महुआ, श्यामपुरा, श्रीनगर, मानपुरा झोपड़ा के लाेगों को पीने के पानी के लिए भटकना पड़ता है। 
कुअां, बावड़ी पर निर्भर हैं जाे घराें से दूर हैं और जल स्तर गिरता जा रहा है। कई बोरवैल सूख चुके हैं। हरपुरा, रलायता, राजगढ़, झझोला, बिकरण, आमली में कहीं मोटर खराब है तो कहीं मोटर ही नहीं है। काछोला उपतहसील क्षेत्र की 13 पचायतों के गाव-ढाणियों में जल वितरण व्यवस्था इतनी खराब है कि कम दबाव व कम समय पानी आने की शिकायत आम लाेगाें की हैं। वितरण व्यवस्था में सुधार के लिए लाखाें रुपए खर्च कर पनघट योजना बनाई थी। उनमें से कई योजनाएं तो नाकारा पड़ी हुई हैं। गांवों के लोग हैंडपंपाें के भरोसे हैं। पनघट योजना के तहत पानी की टंकियां रख रखी हैं। इनकी मोटर खराब है या मोटर ही नहीं है। पनघट काफी समय से शाे पीस बने हुए हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना