पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कपड़ा व्यवसाय ने पकड़ी गति:यार्न में 15 से 30 रुपए प्रति किलो तेजी के साथ बढ़ी कपड़े की मांग, रीको में 250 फैक्ट्रियां फिर शुरू हुईं

भीलवाड़ा22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रीको स्थित फैक्ट्री में कपड़ा बनाने की मशीनों पर लगे श्रमिक। - Dainik Bhaskar
रीको स्थित फैक्ट्री में कपड़ा बनाने की मशीनों पर लगे श्रमिक।
  • मुंबई व भिवंडी बंद हाेने से भीलवाड़ा मंडी काे फायदा, व्यापारियाें में उत्साह

काेराेना संक्रमण बढ़ने से लगाए गए लाॅकडाउन के कारण कपड़ा बाजार भी प्रभावित हुआ। ऐसे में रीकाे स्थित कपड़ा फैक्ट्रियां बंद हाे गई। कुछ फैक्ट्रियां 12 से 16 घंटे चल रही थी, लेकिन पिछले दिनाें यार्न में 15 से लेकर 30 रुपए तक की तेजी आई ताे कपड़े की मांग बढ़ने से बंद फैक्ट्रियां फिर चालू हाे गई। कई फैक्ट्रियां फिर 18 से 24 घंटे चलने लगी है। अनलाॅक हाे रहे प्रदेशाें में कपड़े गांठाें का डिस्पेच हाेने लगा है।

मई के पहले सप्ताह में यार्न डीएमएस की 92 रुपए रेट थी जो बढ़कर 110 रुपए हो गई है। 240 पीवी 185 रुपए किलाे मिलता था, जिसकी रेट 210 से 215 रुपए हो गई। इसी तरह कॉटन के धागे में भी 240 एली 250 रुपए किलाे से बढ़कर 280 से 285 रुपए प्रति किलाे हाे गया है।

18 घंटे चलने लगीं फैक्ट्रियां...यूपी, बिहार सहित कई राज्याें में पहुंच रहा कपड़ा

सिंथेंटिक्स वीविंग मिल्स एसाेसिएशन के अध्यक्ष संजय पेड़िवाल का कहना हैं कि मुंबई व भिवंडी बंद हाेने का फायदा भीलवाड़ा कपड़ा मंडी को मिल रहा है, जाे आगे भी मिलेगा। लाॅकडाउन में बंद व रीकाे स्थित 300 फैक्ट्रियां धीरे-धीरे चालू हाे रही हैं। जो लाेग 12 घंटे फैक्ट्रियां चला रहे थे, वे अब 18 घंटे चलाने लगे हैं और जो 16 घंटे चला रहे थे वे अब 24 घंटे चल रही है। फैक्ट्रियाें में जॉब की परख हाेने से व्यापारियों में उत्साह है।

कपड़े की डिमांड बढ़ी ताे ट्रांसपाेर्ट व्यवसाय भी गति पकड़ने लगा है। भारत ट्रक एंड ट्रांसपाेर्ट वेलफेयर एसाेसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष व ट्रांसपाेर्टर प्रवीण चाैधरी का कहना है कि भीलवाड़ा कपड़ा मंडी से उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, बिहार, गुजरात, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ सहित साउथ में कपड़ा पहुंचाया जा रहा है। पाली, बालाेतरा, जयपुर, जाेधपुर से भी कपड़े की गांठें पहुंचने लगी हैं।

अब शर्टिंग की भी आ रही डिमांड
वीविंग मिल्स के वरिष्ठ उपाध्यक्ष व कपड़ा निर्माता रमेशचंद्र अग्रवाल का कहना है कि जिन राज्याें में अनलाॅक है, वहां से ऑर्डर मिलना शुरू हाे गए है। मुंबई व भिवंडी स्थित कपड़ा मंडियां बंद हाेने से भीलवाड़ा कपड़ा मंडी काे शुटिंग्स के साथ ही शर्टिंग्स के ऑर्डर भी मिलने लगे हैं। एसाेसिएशन के सचिव माेहम्मद साबिर का कहना है कि शुटिंग्स की डिमांड बढ़ने से फैक्ट्रियाें में फिर कपड़ा उत्पादन शुरू हाेने लगा है।

18 स्पीनिंग यूनिट 435 वीविंग यूनिट 18 प्राेसेसिंग यूनिट

खबरें और भी हैं...