पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पानी पाॅलिटिक्स:मातृकुंडियां का पानी कुछ समय राेक सके नेता...3 की बजाय 2 दिन बाद ही खोले गेट

पहुंना13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • भाजपा विधायक की मौजूदगी टालने को पहले मंत्रियों के नाम पर 3 दिन टाला कार्यक्रम, बाद में कांग्रेस पदाधिकारियों की मौजूदगी में एक दिन पहले दिया पानी

मातृकुंडिया बांध के पानी में भी राजनीति घुल गई। दो दिन पहले दैनिक भास्कर की यह खबर शनिवार को फिर साबित हुई जबकि गेट खोलने की प्रक्रिया को मंत्रियों के नाम पर तीन दिन टालने वाले प्रशासन ने आनन-फानन में दो दिन बाद ही पूरी कर दी। इस दौरान बांध पर सत्तासीन कांग्रेस जनप्रतिनिधियाें का जमावड़ा रहा। जल संसाधन विभाग ने शनिवार दोपहर दो बजे मातृकुंडिया बांध के तीन और कुछ देर बाद एक और गेट खोल कर बनास नदी में पानी छोड़ दिया। एईएन के अनुसार नियमानुसार रिजर्व 50 एमसीएफटी पानी छोड़ा जाना है, इसलिए गेट रविवार दोपहर बाद वापस बंद कर देंगे। पूजा अर्चना के बीच एसडीएम सुनील कुमार ने गेट खोला।

इस दौरान उनके पास पूर्व विधायक शंकरलाल बैरवा, ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष नकुलसिंह भाटी और विभागीय अधिकारी मौजूद रहे। बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता व अन्य पदाधिकारी नीचे गेट से दूर जमा थे। उल्लेखनीय है कि विभाग ने पहले परंपरा अनुसार क्षेत्रीय विधायक अर्जुनलाल जीनगर से चर्चा कर 15 अक्टूबर को गेट खोलना तय कर लिया था। विधायक भाजपा पदाधिकारियों व ग्रामीणों के साथ बांध पर भी पहुंच गए पर विभाग ने कार्यक्रम को स्थगित कर इसकी सूचना चस्पा कर दी थी। अधिकारियों ने मौखिक तौर पर यह बताया कि 18 अक्टूबर को जिले के प्रभारी मंत्री अर्जुन बामनिया और सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना भी आ रहे है। इसलिए यह प्रक्रिया भी उनकी मौजूदगी में होगी। इससे नाराज भाजपा विधायक जीनगर बांध पर ही धरने पर बैठ गए थे।

जानिये, फिर मंत्रियों की मौजूदगी में 18 की बजाय एक दिन पहले ही क्यों खोल दिए गेट…सूत्रों के अनुसार विभाग द्वारा विधायक से चर्चा कर कार्यक्रम बना लेने से स्थानीय कांग्रेसी खफा हो गए थे। उनकी शिकायत पर मंत्रियों के दबाव में ही प्रशासन ने कार्यक्रम टालकर 18 को करना तय किया। इधर, पानी मामला एक्सपोस हुआ तो मंत्री पीछे हट गए। यह आशंका भी लगने लगी कि मंत्रियों के सामने विधायक जमावडे के साथ 50 की जगह 270 एमसीएफटी पानी छोड़ने की मांग कर सकते हैं। इससे बवाल और सियासत गर्माएगी। ऐसे में मंत्रियों और स्थानीय कांग्रेस नेताओं ने चर्चा कर प्रशासन से एक दिन पहले 17 को ही गेट खोलने को कह दिया।

40 सेंटीमीटर तक खोले 4 गेट

आज सुबह उच्चाधिकारियों के निर्देश मिलने पर दोपहर में मातृकृंडिया बांध के 4 गेट 40 सेंटीमीटर तक खोले गए। पहले सायरन बजाकर क्षेत्र को सूचित किया। इससे 50 एमसीएफटी पानी बनास नदी में जाएगा। निकासी इस तरह होगी कि इससे रास्ते के एनिकट कम कॉजवे पर Eवागमन में कोई बाधा नहीं आएगी। धीरज बेनीवाल, जेईएन, मातृकुंडिया बांध

प्रशासन ने यूं साधा संतुलन: कार्यकर्ताओं को रोकने पर खफा हुए नेताओं ने कहा, सीएम से कहेंगे

पहले का कार्यक्रम टालने से उपजे विवाद के बीच प्रशासन ने संतुलन साधने की कोशिश की। कलेक्टर ने सिर्फ एसडीएम सुनील कुमार को ही विभागीय अधिकारियों के साथ बांध पर जाकर गेट खोलने को कहा। इधर, मंत्रियों के कहने से बड़ी संख्या में कांग्रेस नेता व पदाधिकारी आदि वहां पहले से जमा थे। एसडीएम और पुलिस ने उनको सिस्टम प्लेटफार्म तक जाने से रोक दिया। यहां तक कि हल्का बल प्रयोग कर सीढियों से नीचे उतार दिया। इससे अति उत्साहित कार्यकर्ताओं के नूर बिगड़ गए और वे अधिकारियों पर गुस्सा हो गए। प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी के बीच पूर्व विधायक बैरवा ने मंत्री आंजना को फोन लगाकर शिकायत की। आंजना के कहने पर बाद में सिर्फ बैरवा और नकुलसिंह को ही अंदर प्रवेश दिया गया। गेट खोलने के बाद बैरवा ने हम सब मंत्रियों के आदेश पर गेट खुलवाने आए थे। कांग्रेस के सत्ता में होने के बाद भी अफसरों का यह रवैया ठीक नहीं था। हम सीएम अशोक गहलोत तक शिकायत कर उनके खिलाफ कार्रवाई कराएंगे।

सत्ता और राजनीतिक अवसर लेना भी ठीक मगर कोविड-19 का तो ध्यान रखते

शासन-प्रशासन की तैयारी से वाकिफ पूर्व विधायक शंकर बैरवा, ब्लाॅक कांग्रेस अध्यक्ष नकुलसिंह, महामंत्री गोवर्धनसिंह गिलुंडिया, पूर्व प्रधान कपासन भैरूलाल चौधरी आदि की अगुवाई में बड़ी संख्या में कांग्रेसी दोपहर में बांध स्थल पर जमा हो गए थे। इनमें से अधिकांश ने न तो चेहरे पर मास्क लगा रखे थे और न दो गज की दूरी थी। यहां तक कि बांध पर एसडीएम के गेट खोलते समय भी पूर्व प्रधान नकुलसिंह भाटी और कुछ कर्मचारी बिना मास्क पहने रहे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपनी दिनचर्या को संतुलित तथा व्यवस्थित बनाकर रखें, जिससे अधिकतर काम समय पर पूरे होते जाएंगे। विद्यार्थियों तथा युवाओं को इंटरव्यू व करियर संबंधी परीक्षा में सफलता की पूरी संभावना है। इसलिए...

और पढ़ें