पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वैक्सीन बर्बादी:18 दिन में 14251 का वैक्सीनेशन, 15500 डोज खर्च हुई, 1249 बेकार

बीकानेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
टीका लगवाते सीओ सिटी शर्मा। - Dainik Bhaskar
टीका लगवाते सीओ सिटी शर्मा।
  • वजह - वायल खुलने के चार घंटे तक कोई टीका लगवाने नहीं आया तो बेकार हो जाती है पूरी डोज

लॉक-डाउन। कर्फ्यू और गली-गली पॉजिटिव पेशेंट। इस दौरान संक्रमण को फैलने से रोकने में सड़कों पर कोई मौजूद थे तो बस-पुलिसकर्मी। पूरी क्षमता के साथ दिन-रात कोरोना से लड़ने मैदान में उतरे इन कार्मिकों को जब बीमारी से बचने के लिए वैक्सीनेशन की बारी आई तो लगभग आधी क्षमता से ही सामने आए। शनिवार को पुलिस अधिकारियों-कर्मचारियों के लिए हुए वैक्सीनेशन में पहले दिन 2526 में से 1471 यानी 58.23 प्रतिशत ने टीका लगवाया। हालांकि निगम-पालिकाकार्मियों के 52.27 प्रतिशत से यह छह फीसदी ज्यादा है लेकिन अब तक के औसत टीकाकरण 65.90 प्रतिशत से काफी पीछे हैं।

पुलिस अधिकारियों-कर्मचारियों को टीका लगाने के लिए 32 जगह बूथ बनाए गए थे। पुलिस लाइन में एक ही जगह महिला बैरक में चार पीएचसी के बूथ लगाकर वैक्सीनेशन किया गया। बड़ी संख्या में बूथ बनाने के साथ ही अपेक्षाकृत कम पुलिसकर्मी पहुंचने का एक नुकसान यह भी हआ कि एक दिन में लगभग 219 डोज वैक्सीन इंतजार में ही बर्बाद हो गई।

यह एक दिन में अब तक की सबसे ज्यादा वैक्सीन बर्बादी है। जिले में अब तक 21624 की एवज में 14251 फ्रंट लाइनर को टीका लगाया गया है। इतने लोगों को टीके लगाने में 15500 डोज वैक्सीन का उपयोग हो चुका है। मतलब यह कि 1249 डोज बेकार गई। यइ कुल टीका लगे हुए व्यक्तियों की तुलना में आठ प्रतिशत से ज्यादा है। वैकसीन बर्बादी की दो प्रमुख वजह है। पहली-वायल खोलने के चार घंटे तक कोई दूसरा न आएं। ऐसे में यह वायल खराब हो जाती है। दूसरी-टीकाकरण बंद होने के वक्त कोई कार्मिक पहुंचे तो उसके लिए नई वायल खोलनी पड़ती है। कोवीशील्ड की एक वायल में 10 डोज होती है। ऐसे में बाकी नौ बेकार जाती है। अगर यह वायल कोवैक्सीन की हो तो 20 में से 19 डोज बर्बाद होती है

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आर्थिक योजनाओं को फलीभूत करने का उचित समय है। पूरे आत्मविश्वास के साथ अपनी क्षमता अनुसार काम करें। भूमि संबंधी खरीद-फरोख्त का काम संपन्न हो सकता है। विद्यार्थियों की करियर संबंधी किसी समस्...

    और पढ़ें