जन संकल्प से हारेगा कोरोना:17 जने पाॅजिटिव हुए, मेरा एचआरसीटी स्काेर 25 हो गया, परिवार ने दी ताकत

बीकानेर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सभी स्वस्थ हुए ताे घर में केक काटकर मनाया था जश्न। - Dainik Bhaskar
सभी स्वस्थ हुए ताे घर में केक काटकर मनाया था जश्न।
  • गंभीर कोरोना संक्रमण होने के बावजूद अपनी इच्छाशक्ति से कोरोना को हराने वालों की जांबाज कहानियां, पढ़िए आज तीसरी कड़ी में श्याम लाल व्यास की कहानी

जुलाई में पत्नी भारती काे बुखार आया। हम दाेनाें ने काेराेना की जांच करवाई। मैं निगेटिव आया लेकिन वो पाॅजिटिव रिपाेर्ट हुई। उस समय हाेम आइसोलेशन की सुविधा शुरू ही हुई थी। मैंने पत्नी काे अपने चाचा के खाली पड़े मकान में शिफ्ट कर दिया। इसी दाैरान सीएमएचओ ऑफिस के लाेग पहुंचे। उन्हाेंने घर के सभी सदस्याें की जांच करवाने के लिए कहा। जांच करवाई ताे पहली बार में 8 सदस्य पाॅजिटिव पाए गए। इतने जनाें काे एक साथ घर में रखना संभव नहीं था।

काेविड केयर सेंटर गए। वहां पर परिवार के अन्य सदस्य सुबह-शाम का खाना व नाश्ता पहुंचाते। मेरी ड्यूटी ज्यादा बढ़ गई। 15 दिन में सभी आठ निगेटिव हुए तो बाकी बचे 7 लोग काेराेना की चपेट में आ गए। मैं और मेरा भतीजा राजेश ही बचे थे। मेरी 72 साल की मां जेठा देवी काे ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया। जैसे-जैसे हमारे परिवार के सदस्य काेविड केयर सेंटर से निगेटिव हाेकर आते गए। हम उन्हें अपने दूसरे मकान में शिफ्ट करते गए।

उसे हमने अपना केयर सेंटर बना रखा था। सभी बीमार वहीं रहे। सबसे अंत में मैं और मेरा भतीजा भी पाॅजिटिव आ गए। मेरा एचआरसीटी स्काेर 25 हो गया। मैं छह दिन पीबीएम के डी वार्ड में, 12 दिन काेविड वार्ड में और 8 दिन सर्जिकल वार्ड में ऑक्सीजन पर रहा। 28 दिन हाॅस्पिटल में बिताने के बाद मैं घर लौटा। दिसंबर तक मेरा स्वास्थ्य खराब रहा।

परिजनाें ने साथ दिया, रिश्तेदाराें ने खाना पहुंचाया, हाेटल से हाेम डिलीवरी करवाई। इस दाैरान मास्क का उपयाेग किया, अन्य लाेगाें से नहीं मिला। परिवार के लोग पाॅजिटिविजी बनाए रखने के लिए भजन-कीर्तन करते। घर के गार्डन में समय बिताते। पौधों की देखभाल करते।

मां से लेकर पाेते-पाेतियां तक आए चपेट में : घर की सबसे बड़ी मुखिया जेठा देवी व्यास, कुंजलाल व उसकी पत्नी मीनाक्षी, बेटी डिंपल व गर्भवती दूसरी बेटी मनीला, रामलाल व उसकी पत्नी विजय लक्ष्मी, बेटा शुभम व अमित, श्यामलाल व उसकी पत्नी भारती, पुत्र अनिल व नंदू, गाेपाल व उसकी पत्नी गंगा।

खबरें और भी हैं...